इंडोनेशियाः दादी के शव के पास से जिंदा मिला बच्चा, भूकंप में 271 में से 100 बच्चों की मौत

भूकंप के बाद बचाव अभियान जारी है. राष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण एजेंसी प्रमुख सुहारयांतो ने बताया कि सर्च ऑपरेशन बढ़ाने के लिए कल सेना के 12,000 जवानों को तैनात किया गया. तलाश अभियान में अब तक पुलिस, बचाव एजेंसी और स्वयंसेवियों के 2,000 संयुक्त बलों को तैनात किया गया था.
 
Earthquake In Indonesia

Earthquake In Indonesia: इंडोनेशिया में 3 दिन पहले आए विनाशकारी भूकंप के बाद राहत कार्य और तलाश अभियान जारी है. सियांजुर में कल बुधवार को भी युद्ध स्तर पर तलाश अभियान जारी रहा, जिसमें छह साल के एक बच्चे को मलबे से जीवित बाहर निकाला गया. हालांकि भारी बारिश की वजह से बचाव प्रयास रोकने के लिए मजबूर होना पड़ा. सियांजुर में सोमवार को आए 5.6 की तीव्रता वाले भूकंप में अब तक 271 लोगों की मौत हुई है.


इंडोनेशिया के मुख्य द्वीप जावा में आए भूकंप के बाद मृतकों और लापता लोगों की तलाश के लिए बुधवार को और अधिक संख्या में बचावकर्मियों तथा स्वयंसेवियों को लगाया गया था. अभी भी कई लोग लापता बताए जा रहे हैं, जबकि कुछ दूर-दराज के इलाकों में अब तक पहुंचा नहीं जा सका है. 5.6 तीव्रता वाले भूकंप में 2 हजार से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. हादसे में मृतकों की संख्या बढ़ने की संभावना है.

घायलों से भरा अस्पताल
द्वीप पर भूकंप के केंद्र के पास स्थित अस्पताल घायलों से भरा हुआ है. राष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण एजेंसी प्रमुख सुहारयांतो ने बताया कि सर्च ऑपरेशन बढ़ाने के लिए बुधवार को सेना के 12,000 जवानों को तैनात किया गया. तलाश अभियान में अब तक पुलिस, बचाव एजेंसी और स्वयंसेवियों के 2,000 संयुक्त बलों को तैनात किया गया था.

दादी के शव के पास जिंदा मिला बच्चा
उन्होंने बताया कि बचावकर्मियों ने बुधवार को तीन और शव बरामद किए तथा छह साल के एक बच्चे को मलबे से जीवित बाहर निकाला. उन्होंने बताया कि बच्चे को उसके घर के मलबे के नीचे उसकी दादी के शव के पास पाया गया.

सुहारयांतो ने बताया कि 58,000 से अधिक लोगों को आश्रय स्थलों पर पहुंचाया गया है. उन्होंने बताया कि 2,043 लोग घायल हुए हैं और उनमें से 600 का विभिन्न चोटों का इलाज चल रहा है. उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सियांजुर में 56,000 से अधिक मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं.

उन्होंने कहा कि सियांजुर में 56,230 से अधिक घर क्षतिग्रस्त हो गए और 31 स्कूलों सहित 170 से अधिक सार्वजनिक भवन नष्ट हो गए. भूकंप से सबसे ज्यादा बच्चे प्रभावित हुए हैं. भूकंप से मरने वाले 271 लोगों में से करीब 100 बच्चे शामिल हैं.

बाल कल्याण से संबंधित एक ईसाई मानवतावादी समूह वहाना विसी इंडोनेशिया के याकोबस रंतुवेन ने कहा कि हम इस भूकंप से दुखी हैं, खासकर इसलिए कि बच्चे असमान रूप से प्रभावित हुए हैं.