Electric Highway : इलेक्ट्रिक हाईवे बनने से बिजली से दौड़ेंगी गाड़ियां, यहाँ जानिए हाईवे की ख़ास बातें
 
Electric Highway

 भारत ऐसे हाईवे बना रहा है, जिन पर चलने के दौरान वाहन चार्ज होंगे. इस बात की पुष्टि परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने भी की है. उन्होंने कहा कि सरकार सौर ऊर्जा से चलने वाले इलेक्ट्रिक हाईवे बनाने पर काम कर रही है. इन हाईवे पर चलते समय भारी ट्रक और बसों को चार्ज किया जा सकता है. इस खबर को पढ़ते ही आपके मन में कई सवाल उठ रहे होंगे. उदाहरण के लिए- ई-हाईवे क्या हैं? ये कैसे काम करते हैं? उनके क्या फायदे हैं? वगैरह, वगैरह… हम ऐसे सभी महत्वपूर्ण सवालों के जवाब दे रहे हैं.

Electric Highway

इलेक्ट्रिक हाईवे क्या हैं?

कॉमन हाईवे या एक्सप्रेसवे पक्की सड़कों से बने होते हैं, जिन पर हर तरह के वाहन दौड़ सकते हैं. वहीं, इलेक्ट्रिक हाईवे ऐसे हाईवे होते हैं जिनमें कुछ उपकरणों के जरिए ऐसा सिस्टम होता है, जिससे गुजरने वाले वाहन बिना रुके अपनी बैटरी चार्ज कर सकते हैं. इसके लिए हाईवे पर ओवरहेड वायर से या सड़क के नीचे ही विद्युत प्रवाह की व्यवस्था की जाती है.

इलेक्ट्रिक हाईवे केवल इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज कर सकते हैं. यह पेट्रोल और डीजल वाहनों को चार्ज नहीं करता है. इनसे हाइब्रिड वाहन भी चार्ज किए जा सकते है. हाइब्रिड वाहनों में इलेक्ट्रिक के साथ-साथ पेट्रोल-डीजल से भी चलने की सुविधा है. यानी इलेक्ट्रिक हाईवे इलेक्ट्रिक सुविधाओं से लैस ऐसे हाईवे होते हैं, जहां से गुजरने वाले वाहनों को चार्ज किया जा सकता है.

इलेक्ट्रिक रोड पर चलते समय वाहन कैसे चार्ज होते हैं?

इलेक्ट्रिक हाईवे पर वाहनों को चार्ज करने के लिए दो तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है-

1. ओवरहेड पावर लाइन यानी सड़क के ऊपर लगे बिजली के तार का इस्तेमाल करके.

2. सड़क के अंदर यानि जमीनी स्तर पर बिजली आपूर्ति के जरिए बिजली लाइन बिछाकर.

ओवरहेड पावर लाइन

इसमें सड़क पर बिजली के तार लगाए जाते हैं. जब इन तारों के नीचे से हाइब्रिड या इलेक्ट्रिक वाहन गुजरते हैं, तो वाहनों के ऊपर लगे पेंटोग्राफ इन तारों के संपर्क में आ जाते हैं. इससे उस वाहन में तार से करंट का प्रवाह शुरू हो जाता है और उसकी बैटरी चार्ज हो जाती है. जब तक वाहन इन तारों के संपर्क में रहते हैं, उनकी बैटरी चार्ज होती रहती है.


दूसरी तरफ मुड़ने यानि तार से संपर्क टूटने के बाद वाहन डीजल या पेट्रोल इंजन मोड में वापस आ जाता है. यानी यह इलेक्ट्रिक बैटरी की जगह पेट्रोल-डीजल से चलने लगती है.

इन हाईवे से सिर्फ इलेक्ट्रिक या हाईब्रिड वाहनों को ही चार्ज किया जाता है. हाइब्रिड का मतलब है इलेक्ट्रिक और डीजल-पेट्रोल दोनों पर चलने वाले वाहन. इलेक्ट्रिक हाईवे पर सिर्फ भारी ट्रकों या बसों को ही इस तकनीक से चार्ज किया जा सकता है.इलेक्ट्रिक हाईवे को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि वाहनों के आपस में टकराने या बिजली के झटके का डर न रहे.

जमीनी स्तर पर बिजली की आपूर्ति

इसमें सड़क में बिजली का कनेक्शन सड़क के अंदर ही लगाया जाता है. इसमें सड़क के नीचे ऐसी रेल या कॉइल लगाई जाती है, जिससे बिजली का प्रवाह किया जा सके. इस तकनीक से चार्ज करने के दो तरीके हैं.

इलेक्ट्रिक रेल: जब ट्रेनें इलेक्ट्रिक रोड के ऊपर से गुजरती हैं, ट्रेनों में विशेष प्रकार के कॉइल इन सड़कों में लगे इलेक्ट्रिक रेल या कॉइल के संपर्क में आते हैं, तो उनकी बैटरी चार्ज होने लगती है.

फ्लीटवोल्यूशन डॉट कॉम के मुताबिक – ‘सड़क के नीचे लगे इलेक्ट्रिक केबल और इलेक्ट्रोमैग्नेटिक ट्रांसमीटर एक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक फील्ड बनाते हैं. यह ऊर्जा उस सड़क से गुजरने वाले वाहन के अंदर स्थापित एक विशेष कुंडल द्वारा खींची जाती है, इस ऊर्जा का उपयोग बैटरी को चार्ज करने के लिए किया जाता है, जिससे कार की सीमा बढ़ जाती है.

वायरलेस चार्जिंग: यह भी एक जमीनी स्तर की बिजली आपूर्ति तकनीक है, यानी सड़क से चार्ज करना. इसमें वाहनों को चार्ज करने के लिए वायरलेस चार्जिंग यानी इंडक्टिव चार्जिंग का इस्तेमाल किया जाता है. इस प्रकार की तकनीक में चार्जिंग के लिए कॉइल के बजाय वाहनों को सेंसर के माध्यम से ही चार्ज किया जाता है जब वे सड़क पर चार्जिंग पॉइंट के संपर्क में आते हैं.

इसका एक उदाहरण मोबाइल फोन की वायरलेस चार्जिंग है.

जमीनी स्तर की बिजली आपूर्ति तकनीक न केवल ट्रकों और बसों को बल्कि कारों सहित किसी भी वाहन को चार्ज कर सकती है. खास बात यह है कि जमीनी स्तर की बिजली की तकनीक ओवरहेड पावर तकनीक से सस्ती है. कुछ यूरोपीय देशों में रोड ट्राम भी सड़क की पटरियों से जमीनी बिजली आपूर्ति का उपयोग कर रहे हैं. 2006 में, फ्रांसीसी शहर बोर्डो में एक ट्राम एक जमीनी बिजली आपूर्ति से चल रही है.

विश्व में विद्युत राजमार्गों का सर्वप्रथम प्रयोग कहाँ हुआ था ?

1990 से 2010 के बीच कई कंपनियों ने इलेक्ट्रिक रोड बनाने के प्रोजेक्ट पर काम किया. दक्षिण कोरिया ने सबसे पहले 2013 में अपने शहर गुमी में बसों के लिए 7.5 किलोमीटर लंबा विद्युत मार्ग बनाया था. इस सड़क पर चलने वाली बसों पर वायरलेस चार्जिंग उपकरण लगाए गए थे.

2015 में, दक्षिण कोरिया ने सेजोंग शहर में बसों के लिए दूसरा विद्युत मार्ग बनाया. 2016 में, कोरिया ने गुमी में बसों के लिए दो और इलेक्ट्रिक रूट लॉन्च किए. स्वीडन ने 2018 में स्टॉकहोम में कारों, बसों और ट्रकों की बैटरी चार्ज करने के लिए दुनिया की पहली विद्युतीकृत सड़क की शुरुआत की. 2019 में, जर्मनी ने फ्रैंकफर्ट शहर के पास दुनिया का पहला इलेक्ट्रिक हाईवे खोला, जिस पर हाइब्रिड ट्रकों को रिचार्ज किया जा सकता है.

करीब 10 किमी लंबी इस इलेक्ट्रिक रोड को सीमेंस मोबिलिटी कंपनी ने बनाया है. अमेरिका, ब्रिटेन, जापान और फ्रांस भी इलेक्ट्रिक हाईवे और इलेक्ट्रिक रोड बनाने पर काम कर रहे हैं. भारत में पिछले कई सालों से इलेक्ट्रिक हाईवे प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है. देश का पहला इलेक्ट्रिक हाईवे 2023 में चालू होने की उम्मीद है.

भारत में इलेक्ट्रिक हाईवे कब और कहां से शुरू होगा?

भारत में इलेक्ट्रिक हाईवे बनाने की योजना 2016 में ही शुरू हो गई थी. तब परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि जल्द ही भारत में भी स्वीडन की तरह इलेक्ट्रिक हाईवे होंगे. भारत ने दुनिया के सबसे लंबे इलेक्ट्रिक हाईवे के निर्माण के लिए अटल ग्रीन इलेक्ट्रिसिटी नेशनल हाईवे यानी AHVRM नाम से एक योजना शुरू की है. इसके तहत दिल्ली-जयपुर एक्सप्रेस-वे और दिल्ली-आगरा-यमुना एक्सप्रेस-वे को इलेक्ट्रिक हाईवे बनाने का पहला प्रोजेक्ट चल रहा है.

यमुना एक्सप्रेसवे पर इलेक्ट्रिक हाईवे का ट्रायल दिसंबर 2020 में किया जा चुका है. वहीं, दिल्ली-जयपुर हाईवे को इलेक्ट्रिक हाईवे बनाने का ट्रायल 9 सितंबर 2022 को शुरू हो गया है, जो एक महीने तक चलेगा. दिल्ली-जयपुर हाईवे और दिल्ली-आगरा यमुना एक्सप्रेसवे सहित लगभग 500 किलोमीटर के इलेक्ट्रिक हाईवे के मार्च 2023 तक चालू होने की उम्मीद है. यह देश का पहला और दुनिया का सबसे लंबा इलेक्ट्रिक हाईवे होगा. वर्तमान में दुनिया का सबसे लंबा इलेक्ट्रिक हाईवे बर्लिन में है, जिसकी लंबाई 109 किमी है.

साल में लागू होने वाले गडकरी की डिवाइस की योजना में 1300 पुरानी-मुंबई इंटरनेट पर चलने वाले बिजली वाले होते हैं. ये एक्सप्रेस अक्टूबर 2023 पूरा होने की उम्मीद है. इस एक्सप्रेस-वे पर बिजली वाले एक अलग से बनाने की योजना है.

इलेक्ट्रीशियन बनाने के फायदे क्या हैं?

विद्युतीय परिवर्तन को भविष्य में परिवर्तन किया जा रहा है. पहला – इससे बिना फॉसिल यानी पेट्रोल और डीजल के वाहन चल सकेंगे. दूसरा- इससे वायु प्रदूषण शून्य हो जाता है. प्रदूषण पूरी दुनिया के लिए एक गंभीर समस्या है.

सीमेंस कंपनी के मुताबिक- ‘अगर ट्रक ट्रैफिक वाले करीब 30 फीसदी हाईवे का विद्युतीकरण कर दिया जाए तो इससे हर साल करीब 70 लाख टन कम कार्बन डाइऑक्साइड निकल जाएगी. यानी वायु प्रदूषण की समस्या काफी कम हो जाएगी.

परिवहन मंत्रालय के मुताबिक इलेक्ट्रिक हाईवे बनने से हर साल करीब 32 लाख करोड़ लीटर पेट्रोल-डीजल की बचत होगी. साथ ही इससे देश की रसद लागत में हर साल करीब 1 लाख करोड़ रुपये की कमी आएगी. परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि इलेक्ट्रिक हाईवे बनाने पर सरकार ढाई लाख करोड़ रुपये खर्च कर रही है. सरकार का मानना ​​है कि इससे देश में इलेक्ट्रिक वाहनों का बाजार तेजी से बढ़ेगा.

इलेक्ट्रिक हाईवे देश में 26 ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे बनाने की सरकार की योजना का हिस्सा हैं. गडकरी का कहना है कि सरकार की योजना ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे के तहत देश भर में राजमार्गों के किनारे करीब तीन करोड़ पेड़ लगाने की है.