Blackout in Pakistan: ब्लैकआउट और लोड शोडिंग को लेकर सड़कों पर उतरे लोग, मतदान का बहिष्कार करने की दी धमकी
पाकिस्तान में संपूर्ण ब्लैकआउट और लोड शेडिंग को लोग सड़कों पर उतर आए हैं। वे सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए हाईवे को जाम कर दिया है जिससे यातायात बाधित हो गया है। उन्होंने चुनाव में मतदान का बहिष्कार करने की धमकी भी दी है। (प्रतीकात्मक तस्वीर)
 
 
 Blackout in Pakistan:

 Blackout in Pakistan: पूरे पाकिस्तान में पूर्ण ब्लैकआउट, लोड शेडिंग, ट्रिपिंग और कम वोल्टेज के मुद्दे पर विरोध प्रदर्शन किया गया। कलात के गरीबाबाद के लोग लंबे समय से बिजली और गैस की समस्या से जूझ रहे हैं। लोगों ने इसकी शिकायत अधिकारियों से की, लेकिन स्थिति नहीं बदली। इसलिए, निराश लोगों को विरोध करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

सड़कों पर उतरे लोग
स्थानीय मीडिया इंतेखाब डेली के मुताबिक, लोग सड़कों पर उतर आए। महिलाओं और बच्चों ने नेशनल हाईवे को बंद कर दिया। कराची-क्वेटा पर यातायात बाधित हो गया है । पिछले महीने गरीबाबाद में एक ट्रांसफार्मर जल गया था। तब से लोग बिजली की समस्या से जूझ रहे हैं, क्योंकि ट्रांसफार्मर की न तो मरम्मत की गई है और न ही इसे बदला गया है।


अपने खर्च पर लोगों ने कराई ट्रासफार्मर की मरम्मत
ट्रांसफार्मर खराब था। स्थानीय लोगों ने अपने खर्चे पर कई बार इसकी मरम्मत करायी थी, लेकिन अब यह मरम्मत से परे हो गया है, लेकिन बिजली कंपनी इसे बदलने के लिए कोई कदम नहीं उठा रही है। डेली पाकिस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक, इस बीच, पेशावर के एक उपनगर रेगी के नागरिकों ने पूरी तरह से ब्लैकआउट के खिलाफ नासिर बाग रोड पर विरोध प्रदर्शन किया और सड़क पर बैरिकेड्स लगाए और टायर जलाए।

मतदान का बहिष्कार करने की धमकी
उर्दू पॉइंट की रिपोर्ट के अनुसार, प्रदर्शनकारियों ने धमकी दी कि अगर बिजली की आपूर्ति शुरू नहीं की गई तो वे मुख्य सड़क के साथ-साथ ग्रिड स्टेशन पर हमला कर देंगे और आगामी चुनावों में मतदान का बहिष्कार करेंगे।इसके अलावा, स्कर्दू में, लोगों और व्यापारियों ने सड़कों पर उतर आए और व्यापक लोड शेडिंग के खिलाफ मुख्य राजमार्ग को अवरुद्ध कर दिया। अस्ताना चमक रोड पर यातायात पूरी तरह से अवरुद्ध हो गया और वाहनों की लंबी कतारों के कारण पूरी तरह से अफरातफरी मच गई। 


सरकार के खिलाफ नारेबाजी
स्थानीय मीडिया ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और मांग की कि लोगों के धैर्य की परीक्षा नहीं होनी चाहिए और अधिकारियों को निर्बाध बिजली की आपूर्ति के लिए तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए।बिजली संकट और खराब ट्रांसफार्मर के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने गिलगित में भी मेन रोड को जाम कर दिया।