Weather Update: पश्चिमी विक्षोभ की हिमालय तक पहुंचने की संभावना, कहां-कहां कब तक होगी बारिश, जानें क्या होता है पश्चिमी विक्षोभ?

देश कई राज्यों में शीत लहर ने दस्तक दे रखी है। दिल्ली-एनसीआर, पंजाब, राजस्थान और हरियाणा सहित उत्तर पश्चिम भारत में शीत लहर की स्थिति जारी है। वहीं  मौसम विभाग ने देश के कई राज्यों में बारिश की संभावना जताई हुई है।
 
Weather Update: पश्चिमी विक्षोभ की हिमालय तक पहुंचने की संभावना, कहां-कहां कब तक होगी बारिश, जानें क्या होता है पश्चिमी विक्षोभ?

Weather Update: देश कई राज्यों में शीत लहर ने दस्तक दे रखी है। दिल्ली-एनसीआर, पंजाब, राजस्थान और हरियाणा सहित उत्तर पश्चिम भारत में शीत लहर की स्थिति जारी है। वहीं  मौसम विभाग ने देश के कई राज्यों में बारिश की संभावना जताई हुई है। वहीं आपको बता दें कि पश्चिमी विक्षोभ के 18 जनवरी की रात से पश्चिमी हिमालय तक पहुंचने की संभावना है। इसके बाद एक और पश्चिमी विक्षोभ जो अधिक सक्रिय होगा, 20 जनवरी को पश्चिमी हिमालय पहुंचेगा।

पश्चिमी विक्षोभ का असर देश के कई राज्यों में देखने को मिलेगा। इसके असर से दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के उत्तरी हिस्से में 23 और 24 फरवरी को गरज के साथ बारिश के आसार हैं। फ़िलहाल दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और पश्चिम मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में शीतलहर तथा भीषण शीतलहर जारी रही है।

 जानें पश्चिमी विक्षोभ क्या होता है

पश्चिमी विक्षोभ या वेस्टर्न डिस्टर्बन्स भूमध्यसागरीय क्षेत्र में उत्पन्न होने वाला एक तूफान है, जो भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तर-पश्चिमी हिस्सों में अचानक सर्दियों में बारिश लाता है।  यह बरसात मानसून की बरसात से अलग होती है। आने वाले तूफान या कम दबाव वाले क्षेत्र भूमध्यसागरीय क्षेत्र, यूरोप के अन्य भागों और अटलांटिक महासागर में उत्पन्न होते हैं।

पश्चिमी विक्षोभ की उत्पत्ति कैसे होती है? 

पश्चिमी विक्षोभ की उत्पत्ति कम दबाव वाले क्षे त्र भूमध्यसागरीय क्षेत्र, यूरोप के अन्य भागों और अटलांटिक महासागर में होती है। क्योंकि यह अशांत हवाएं भारत में पश्चिम दिशा से प्रवेश करती है इसलिए इन्हें पश्चिमी विक्षोभ कहा जाता है।