Pollution News Meerut: मेरठ 48 घंटे तक हवा की गुणवत्ता खराब रहने की आशंका, ठंड में बरतें विशेष सावधानी

मेरठ में मौसम में गुलाबी ठंड घुल गई है। मेरठ का रात का तापमान अभी ईकाई के अंक में नहीं पहुंचा है। दिल्ली सफदर जंग में गुरुवार को न्यूनतम तापमान 8.4 डिग्री पहुंच गया। यह सामान्य से तीन डिग्री कम था। मेरठ में न्यूनतम तापमान 11.1 डिग्री रहा यह सामान्य से एक डिग्री अधिक रहा।
 
Pollution News Meerut: मेरठ 48 घंटे तक हवा की गुणवत्ता खराब रहने की आशंका, ठंड में बरतें विशेष सावधानी

AQI In Meerut : मेरठ में मौसम में गुलाबी ठंड घुल गई है। मेरठ का रात का तापमान अभी ईकाई के अंक में नहीं पहुंचा है। दिल्ली सफदर जंग में गुरुवार को न्यूनतम तापमान 8.4 डिग्री पहुंच गया। यह सामान्य से तीन डिग्री कम था। मेरठ में न्यूनतम तापमान 11.1 डिग्री रहा यह सामान्य से एक डिग्री अधिक रहा। अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 26 डिग्री सेल्सियस रहा।

बड़े परिवर्तन की संभावना नहीं
मौसम विभाग ने आने तीन-चार दिन में कोई बड़े परिवर्तन की संभावना नहीं जताई है। हवा की रफ्तार कम होने से शुक्रवार को प्रदूषण बढ़ने की आशंका है। यह 48 घंटे तक खराब बनी रहेगी। गुरुवार को शाम चार बजे मेरठ का समग्र एक्यूआइ 228 रहा। मुजफ्फरनगर में यह 237 और दिल्ली में 213 दर्ज किया गया। यह पिछले 24 घंटे का एक्यूआइ था।



ऐसा रहा एक्‍यूआइ लेवल

गंगा नगर में शाम छह बजे पीएम 2.5 की मात्रा 450 माइक्रो ग्राम प्रति घन मीटर हो गई। एक्यूआइ भी 281 पर पहुंच गई। जयभीम नगर में भी पीएम 2.5 यह शाम आठ बजे बजे के बाद 400 के ऊपर था। यह हवा की बेहद खराब गुणवत्ता को दर्शाता है।

ठंड में बरतें विशेष सावधानी
पीएल शर्मा जिला अस्पताल के वरिष्ठ फिजिशियन डा. पीके बंसल का कहना है कि ठंड के मौसम में विशेष सावधानी बरतने की जरुरत है। इस मौसम में गले में खरास, सूखी खांसी व सामान्य बुखार के मरीजों की संख्या एकाएक बढ़ जाती है। वहीं, दिल के रोगियों को हार्टअटैक और ब्लड प्रेशर के मरीजों को पैरालाइसिस की आशंका बनी रहती है।

सूर्योदय से पहले मार्निंग वाक से बचें
ऐसे मरीजों को ठंड से स्वयं को बचाना चाहिए। दिल व ब्लड प्रेशर के रोगी और वृद्ध लोगों को सूर्योदय से पहले मार्निंग वाक से बचना चाहिए। स्वयं को ऊनी वस्त्रों से ढककर रखना चाहिए। ठंडी चीज व पानी न लेकर गुनगुना पानी प्रयोग करें। नियमित रूप से अपनी जांच कराएं। खांसी, जुकाम होने पर मास्क का प्रयोग जरूर करें। यदि स्वास्थ्य ठीक नहीं हो रहा है तो विशेषज्ञ चिकित्सक को जरूर दिखाएं किसी नीम हकीम के चक्कर में न पड़ें।