Monsoon Updates: पश्चिम बंगाल तक पहुंचा मानसून, लेकिन दिल्ली-एनसीआर में कब देगा दस्तक? सामने आया लेटेस्ट अपडेट

Monsoon Updates: इस साल मानसून पश्चिम बंगाल तक पहुंच चुका है लेकिन दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के इलाके अब भी सूखे हैं. इस इलाके में मानसून की एंट्री आखिर कब होगी. इस पर मौसम विभाग ने लेटेस्ट अपडेट जारी किया है. 

 
Monsoon Updates: पश्चिम बंगाल तक पहुंचा मानसून, लेकिन दिल्ली-एनसीआर में कब देगा दस्तक? सामने आया लेटेस्ट अपडेट

Monsoon Updates: गर्मी से परेशान लोग अब बेसब्री से मानसून का इंतजार कर रहे हैं. दिल्ली-एनसीआर में पहले मानसून (Monsoon) के आने की तारीख 24 जून संभावित की गई थी लेकिन अब यह डेट आगे बढ़ गई है. ऐसे में लोगों के जेहन में सवाल है कि आखिर मानसून की दिल्ली में एंट्री कब होगी. इस बारे में मौसम विभाग ने लेटेस्ट अपडेट जारी किया है. 

पश्चिम बंगाल पहुंचा मानसून

मौसम विभाग ने कहा कि मानसून (Monsoon) थोड़ी सुस्त रफ्तार से चलते हुए पश्चिम बंगाल पहुंच चुका है. इस सप्ताह के अंत तक यह मध्य प्रदेश, गुजरात, बिहार और झारखंड के बाकी हिस्सों को भी कवर कर लेगा. इसके साथ ही उत्तर पश्चिम भारत यानी राजस्थान, मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में भी प्रवेश कर जाएगा और वहां मानसून की बारिश शुरू हो जाएगी. इसके बाद यह आगे बढ़ता हुआ यूपी के अधिकांश हिस्सो को कवर करेगा. 

29 जून को दिल्ली-एनसीआर में एंट्री

विभाग ने अनुमान जताया कि 29 जून से 2 जुलाई के बीच में दिल्ली-एनसीआर समेत हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू कश्मीर में मानसून की बारिश शुरू हो सकती है. इसके साथ ही 30 जून से 6 जुलाई के बीच में मानसून (Monsoon) देश के अधिकतर हिस्सों को कवर कर बारिश शुरू कर देगा. विभाग के अधिकारियों के मुताबिक इस बार मानसून सामान्य रहने की उम्मीद है और एक बार शुरू होने के बाद बारिश झमाझम बरसेगी. 

शुरू होगा झमाझम बारिश का दौर

बता दें कि हर साल दिल्ली-एनसीआर में 29 जून को ही मानसून (Monsoon) की एंट्री होती है. हालांकि इस बार मौसम विभाग ने अनुमान जताया था कि वह अपनी निर्धारित तारीख से 6 दिन पहले यानी 23 जून को आ सकता है. इसी बीच 16 जून को ईरान-पाकिस्तान के रास्ते उत्तरी भारत में प्रवेश करने वाले पश्चिमी विक्षोभ की वजह से बारिश शुरू हो गई. जिसके चलते 2-3 दिन मौसम सुहावना बना रहा. यह विक्षोभ गुजरते ही फिर से उत्तर भारत में तेज गर्मी का दौर शुरू हो गया. माना जा रहा है कि 29 जून को मानसून का इंतजार खत्म हो जाएगा बारिश का दौर शुरू हो जाएगा.

देश भर में बने मौसमी सिस्टम

पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर और उससे सटे इलाकों पर बना हुआ है जो पूर्व की ओर बढ़ रहा है।

एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र झारखंड और उत्तरी ओडिशा के आसपास के हिस्सों पर बना हुआ है।

एक ट्रफ रेखा झारखंड और ओडिशा पर बने चक्रवाती हवाओं के क्षेत्र से उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश तक फैली हुई है।

एक और ट्रफ रेखा दक्षिण गुजरात तट से केरल तट तक फैली हुई है।

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल

पिछले 24 घंटों के दौरान, ओडिशा, पूर्वी राजस्थान, तटीय कर्नाटक, कोंकण और गोवा के कुछ हिस्सों में और मणिपुर और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में एक या दो स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश के साथ भारी बारिश हुई।

गुजरात, मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों, छत्तीसगढ़, केरल, लक्षद्वीप, रायलसीमा, आंतरिक महाराष्ट्र, झारखंड, असम, जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई।

आंतरिक कर्नाटक और तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश में एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश देखी गई।

उत्तर पश्चिमी भारत और मध्य भारत के कुछ हिस्सों में उत्तर-पश्चिमी शुष्क हवाएँ शुरू हो गई हैं जिससे तापमान में वृद्धि हुई है।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों के दौरान, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, तटीय कर्नाटक, कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।

सिक्किम, असम, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, आंतरिक महाराष्ट्र, दक्षिण छत्तीसगढ़ और ओडिशा में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक दो स्थानों पर भारी बारिश संभव है। ।

बाकी पूर्वोत्तर भारत, आंतरिक ओडिशा, केरल, आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु के कुछ हिस्सों, रायलसीमा, तेलंगाना और लक्षद्वीप में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

बिहार, झारखंड, गंगीय पश्चिम बंगाल, उत्तरी छत्तीसगढ़, दक्षिण और पूर्वी गुजरात, दक्षिण-पश्चिम और पूर्वी मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों और पश्चिमी हिमालय में एक या दो स्थानों पर हल्की बारिश संभव है।

पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिम और मध्य उत्तर प्रदेश के अधिकांश हिस्सों, राजस्थान और मध्य प्रदेश के उत्तरी हिस्सों सहित उत्तर पश्चिमी भारत का मौसम कम से कम अगले 2 से 3 दिनों तक शुष्क रहेगा।

उत्तर पश्चिम और मध्य भारत के कुछ हिस्सों में अधिकतम तापमान में और वृद्धि होने की संभावना है।