खेती किसान

हरियाणा में फिर बदलेगा मौसम, जानिये कब हो सकती है बारिश ?

Weather will change again in Haryana, know when it may rain?

इस समय तापमान में गिरावट का दौर लगातार जारी है। न्यूनतम तापमान 10.0 डिग्री से नीचे आया गया है। मौसम विभाग ने संभावना जताई है कि नवंबर के अंत तक मौसम में और गिरावट होगी और ठंडक और ज्यादा बढ़ेगी। रात का तापमान 7.0 डिग्री से भी नीचे जा सकता है। इसके साथ ही रात के समय पड़ने वाली ओस का सिलसिला भी शुरू हो गया है।

यह ओस हवा में फैले जहरीले कणों को जमीन पर लाने में सहयोगी साबित होगी, जिससे प्रदूषण के स्तर में धीरे-धीरे गिरावट आ जाएगी और मौसम साफ होना शुरू हो जाएगा।

अभी ऐसा कोई पश्चिमी विक्षोभ भी सक्रिय होने की संभावना नजर नहीं आ रही है जो हरियाणा, दिल्ली व एनसीआर क्षेत्र को प्रभावित करे। ऐसे में संभव है कि प्रदूषण का स्तर धीरे-धीरे ही कम होगा। इधर पहाड़ी क्षेत्रों पर बर्फबारी की वजह से मैदानी भागों का न्यूनतम तापमान में गिरावट आई है। जिसकी वजह से ठंड का एहसास बढ़ गया है। करनाल का अधिकतम तापमान 26.0 डिग्री व न्यूतनम तापमान 9.2 डिग्री सेल्सियस तक आ गया है।

कम दबाव का क्षेत्र दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी और उत्तरी अंडमान सागर के आसपास के हिस्सों पर बना हुआ है। संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 5.8 किमी तक फैला हुआ है। यह पश्चिम उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ेगा और 24 घंटों में यह गहरे निम्न दबाव में बदल सकता है। इसके 18 नवंबर तक दक्षिण आंध्र प्रदेश और उत्तरी तमिलनाडु तट पर पहुंचने की उम्मीद है।

कृषि मौसम विज्ञान विभाग, चौधरी चरणसिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय  हिसार
@17.11.2021 मौसम पूर्वानुमान: हरियाणा राज्य में मौसम आमतौर पर 22 नवम्बर तक खुश्क बने  रहने की संभावना है। परन्तु कमजोर पाश्चिमी विक्षोभ के कारण 19 व 20 नवम्बर को बीच बीच में कहीं-कहीं हल्की बादलवाई  भी संभावित है।इस दौरान  राज्य में हल्की  गति से पाश्चिमी व उत्तर पाश्चिमी   हवाएँ चलने से रात्रि तापमान में हल्की गिरावट भी संभावित। इस  दौरान राज्य में  दिन का तापमान सामान्य के आसपास ही बने रहने की संभावना है।
##$$$$$$#/////////#$$$$$$
डॉ मदन खीचड़ विभागाध्यक्ष
कृषि मौसम विज्ञान विभाग, चौधरी चरणसिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार

देश भर में बने मौसमी सिस्टम 

कम दबाव का क्षेत्र दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी और उत्तरी अंडमान सागर के आसपास के हिस्सों पर बना हुआ है। संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 5.8 किमी तक फैला हुआ है। यह पश्चिम उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ेगा और 24 घंटों में यह गहरे निम्न दबाव में बदल सकता है। इसके 18 नवंबर तक दक्षिण आंध्र प्रदेश और उत्तरी तमिलनाडु तट पर पहुंचने की उम्मीद है।

कर्नाटक तट के पास पूर्वी केंद्र अरब सागर के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बन गया है, संबंधित चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 5.8 किमी तक बढ़ रहा है और इसके पश्चिम उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ने और बाद के 48 घंटों में यह गहरे निम्न दबाव में बदल सकता है।

एक ट्रफ रेखा पूर्वी मध्य अरब सागर पर निम्न दबाव के क्षेत्र से लेकर कर्नाटक रायलसीमा और तेलंगाना होते हुए उत्तरी ओडिशा तक फैली हुई है। 18 नवंबर से पश्चिमी हिमालय में एक नया पश्चिमी विक्षोभ आने की संभावना है।

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल
पिछले 24 घंटों के दौरान, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, केरल, तटीय कर्नाटक, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तटीय आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों और तेलंगाना के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ को स्थानों पर भारी बारिश हुई।

लक्षद्वीप, तमिलनाडु और ओडिशा में हल्की से मध्यम बारिश हुई। दक्षिण मध्य महाराष्ट्र और गंगीय पश्चिम बंगाल में हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों के दौरान, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, तमिलनाडु, कर्नाटक के कुछ हिस्सों और तटीय आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।

लक्षद्वीप, तेलंगाना के शेष हिस्सों, दक्षिण कोंकण और गोवा और मध्य महाराष्ट्र में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। दक्षिण ओडिशा, दक्षिण और दक्षिण पूर्व गुजरात और गिलगित बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और लद्दाख के अलग-अलग हिस्सों में हल्की बारिश संभव है।

कर्नाटक तट के पास पूर्वी केंद्र अरब सागर के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बन गया है, संबंधित चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 5.8 किमी तक बढ़ रहा है और इसके पश्चिम उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ने और बाद के 48 घंटों में यह गहरे निम्न दबाव में बदल सकता है। एक टर्फ रेखा पूर्वी मध्य अरब सागर पर निम्न दबाव के क्षेत्र से लेकर कर्नाटक रायलसीमा और तेलंगाना होते हुए उत्तरी ओडिशा तक फैली हुई है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top