Vastu tips: नवरात्रि पर रखे इन बातों का ध्यान, घर में होगा लक्ष्‍मी का आगमन

घर का वास्तु रहेगा सही तो नवरात्रि के त्योहार पर देवी दुर्गा की मिलेगी असीम कृपा। 

 
Vastu tips: नवरात्रि पर रखे इन बातों का ध्यान, घर में होगा लक्ष्‍मी का आगमन

नवरात्रि के पर्व को धूमधाम से मनाने की तैयारी आपने भी कर ली होगी। मगर इस दौरान आपको अपने घर के वास्‍तु पर भी विशेष ध्यान रखना होगा, तब ही आपको देवी की कृपा प्राप्त होगी।


हमने नवरात्रि के दौरान घर का वास्तु कैसा होना चाहिए इस बारे में वास्तु एक्सपर्ट रिद्धि बहल से पूछा है। वह कहती हैं, 'इस दौरान घर में देवी वास करने के लिए आती हैं और यदि आप उन्‍हें प्रसन्‍न करते हैं तो वह धन और सुख-समृद्धि की वर्षा करके जाती हैं।'

हिंदू धर्म में स्वास्तिक चिन्ह को कल्याण और मंगल से जोड़ कर देखा जाता है और इसलिए नवरात्रि के पर्व पर पहले ही दिन आपको घर के मुख्य द्वार पर दाईं और बाईं ओर हल्दी एवं चूने से स्वास्तिक का चिन्ह बनाना चाहिए। ऐसा करने से आप मंगल को अपने घर की ओर आकर्षित करती हैं और सब कुछ शुभ होता है।

ईशान कोण पर आपको देवी जी की स्थापना करनी चाहिए। अगर आप देवी जी की प्रतिमा की स्थापना नहीं कर रही हैं, तो आपको इस कोण पर कलश और जवारे स्थापित करने चाहिए। ऐसा करने से आपके घर में सुख और समृद्धि का निवास होता है। रिद्धि जी कहती हैं, 'जमीन के उत्तर-पूर्व कोण को ईशान कोण कहते है। यह सबसे अच्छा कोण माना जाता है क्योंकि इसमें देवी-देवताओं का वास होता है।'

अगर आप नवरात्रि में हवन-पूजन करती हैं, तो वह आपको आग्नेय कोण में करना चाहिए क्योंकि यह अग्नि का स्थान होता है। आप यदि नवरात्रि के पर्व पर अखंड दीपक जलाती हैं, तो वह भी आपको इसी दिशा में जलाने चाहिए। ऐसा करने से आपको अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त होगी।

नवरात्रि में शाम को सूर्यास्त होने के साथ ही आपको 7 कपूर जला कर देवी जी की आरती जरूर करनी चाहिए। इससे घर की सारी नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है और घर में देवी लक्ष्‍मी का आगमन होता है।

नवरात्रि में जब देवी दुर्गा को आप भोग लगाएं तो उस दौरान आप घंटी या ताली जरूर बजाएं। दरअसल, देवी तब तक भोजन ग्रहण नहीं करती हैं, जब तक उनका आह्वान न किया जाए।
नवरात्रि पर हर दिन तुलसी के पौधे में एक घी का दीपक जरूर जलाएं, इससे गृह क्लेश दूर होता है और दाम्पत्य जीवन में खुशहाली बनी रहती है।

नवरात्रि भर आपको माथे में नियमित लाल चंदन का तिलक लगाना चाहिए, ऐसा करने से आपका दिमाग शांत रहता है हर कार्य में आपका मन लगता है और जीवन में गतिशीलता बनी रहती है।
इसके साथ ही आपको पूजा के कमरे में या घर में बने मंदिर में लाल रंग की बत्ती लगानी चाहिए। लाल रंग को शुभ माना जाता है। यह रंग सकारात्मकता का प्रतीक होता है।
नवरात्रि में देवी दुर्गा को गुलाब, गुड़हल और कमल का फूल जरूर अर्पित करना चाहिए। इससे देवी प्रसन्न होती हैं और धन की वर्षा करती हैं।

नवरात्रि के दौरान आपको रसोई में नींबू काटने से बचना चाहिए। दरअसल, इस दौरान घर में खट्टी चीजों का प्रयोग कम कर दें। इससे मन अशांत रहता है और नकारात्मक शक्तियों का घर में वास होता है।

नवरात्रि के दौरान आपको अपनी पुरानी झाड़ू नहीं बदलनी चाहिए। नवरात्रि के बाद आप पुरानी झाड़ू की जगह नई झाड़ू लेकर आनी चाहिए।

यदि आपको लगता है कि घर में किसी वजह से वातावरण खराब है और आप गृह क्लेश से छुटकारा (गृह क्लेश को दूर करने के आसान उपाय) पाना चाहती हैं, तो आपको एक पात्र में पानी भरकर रखें और उसमें नमक डाल लें। ऐसा करने से आपके घर में मौजूद हर तरह की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाएगी।

आपको नवरात्रि के दौरान घर के आंगन को गोबर से लीपना चाहिए। यदि आप ऐसा नहीं कर पा रही हैं, तो आपको अपने घर के आंगन में 7 कंडे टांग देने चाहिए। ऐसा करने से आपके घर का वातावरण शुद्ध बना रहेगा और देवी लक्ष्‍मी का घर में वास होगा।

घर में किसी कन्या के रोज पैर पूजें। आपको बता दें कि द्वापर में यह परंपरा श्रीकृष्ण द्वारा श्री राधा रानी को प्रसन्न करने के लिए शुरू की गई थी। नवरात्रि के दौरान घर की महिलाओं और कुंवारी कन्याओं का आदर करना चाहिए और उन्हें उपहार भी देना चाहिए।

नवरात्रि के दौरान रसोई में छौंक लगाने से बचें और पक्का खाना ही बनाएं। रसोई में जो भोजन बनाएं उसका नियमित देवी जी को भोग लगाएं।