देश में ऐसी भी एक रेलगाड़ी है, जिसमें नहीं लगता किराया, फ्री में सफर करने वालों की लगी रहती है भीड़

देश में ट्रेन से यात्रा करना सुरक्षित माना जाता है। यही कारण है कि ज्यादातर लोग रोडवेज से ज्यादा सफर करते हैं और आम लोगों के लिए यह दूसरे किरायों से ज्यादा किफायती होता है।
 
देश में ऐसी भी एक रेलगाड़ी है, जिसमें नहीं लगता किराया

देश में ट्रेन से यात्रा करना सुरक्षित माना जाता है। यही कारण है कि ज्यादातर लोग रोडवेज से ज्यादा सफर करते हैं और आम लोगों के लिए यह दूसरे किरायों से ज्यादा किफायती होता है। ट्रेन में सफर के लिए जनरल, स्लीपर और एसी कैटिगरी बनाई जाती है, जिसमें यात्री अपनी सुविधा के अनुसार सफर करते हैं।

ऐसे में अगर आपको पता है कि ऐसी ट्रेन में कोई ट्रेन नहीं होती है और यात्रा के दौरान कोई किराया लागू नहीं होता है, तो यह आपके लिए किसी आश्चर्य से कम नहीं होगा। हाँ, लेकिन यह सच है. भारत में एक ऐसी ट्रेन है जिसमें यात्रियों से किराया नहीं लिया जाता है। पिछले 75 सालों से लोग इसमें सफर कर रहे हैं। आइए जानते हैं इस ट्रेन के बारे में पूरी जानकारी

फ्री किराए वाली ट्रेन कहां से कहां चलती है

भाखड़ा-नंगल ट्रेन एक ऐसी ट्रेन है, जिसके सफर के लिए कोई पैसा नहीं देना होता है. यह ट्रेन भाखड़ा-नंगल बांध के बीच चलती है। यह बांध हिमाचल प्रदेश और पंजाब की सीमा पर है, जिसे देखने के लिए दुनिया भर से पर्यटक आते हैं। यह बांध पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है और इसे स्ट्रेट ग्रेविटी बांध के नाम से जाना जाता है। ट्रेन सतलुज नदी से उड़ान भरती है और शिवालिक जीवों के बीच 13 किमी की छोटी यात्रा पूरी करती है। इस ट्रेन में 75 साल से लोग मुफ्त यात्रा का लाभ उठा रहे हैं।

इस ट्रेन के कोच लकड़ी से बने हैं 

जब इस ट्रेन में यात्रियों से किराया भी नहीं लिया जाता है तो टीटीई की जरूरत ही नहीं रह जाती है. शायद इसलिए इसमें टीटी नहीं है। इस ट्रेन की एक और दिलचस्प बात यह है कि इसके लंबे कोच लकड़ी के बने हैं। यह ट्रेन डीजल से चलती है। हालांकि 1948 में शुरू हुई इस ट्रेन को भाप के इंजन से चलाया जाता था। इसका कोच बना था और इसका इंजन अमेरिका से आया था।

रोजाना 800 लोग सफर करते हैं

कहा जाता है कि आज भी इस ट्रेन से सफर करने वालों की संख्या 800 है। इस ट्रेन में काफी उम्रदराज लोग भी देखे जा सकते हैं। कहा जाता है कि जब बांध बना था तो डरने की कोई बात नहीं थी। ऐसे बनाया गया था रेलवे ट्रैक बांध के निर्माण के दौरान भी इस ट्रेन का इस्तेमाल ट्रेनों और कतारों को ले जाने के लिए किया जाता था।