Survey on Teens Watching Porn: ऑनलाइन पोर्न देखने के दोषी नहीं हैं बच्चे! सर्वे में हुआ ये बड़ा खुलासा, जानिए कौन है इसका ज़िम्मेदार

 
ऑनलाइन पोर्न देखने के दोषी नहीं हैं बच्चे!

Survey on Teens Watching Porn:  आम तौर पर किशोरों और बच्चों पर प्रौद्योगिकी के दुष्प्रभावों के बारे में पर्याप्त चर्चाएं  होती हैं। लोग यह तो बात करते हैं कि बच्चा सारा दिन फ़ोन चला रहा है लेकिन बच्चा किस प्रकार की सामग्री देख रहा है इसको लेकर कोई बात नहीं करता। यहां तक की कुछ लोग तो जानते ही नहीं है उनका बच्चा सारा दिन फ़ोन पर कर क्या रहा है जो काफी खतरनाक भी साबित हो सकता है। 

वहीं हाल ही में एक सर्वेक्षण में इस बात का खुलासा हुआ है कि 50 प्रतिशत से अधिक किशोर 13 साल की उम्र तक पोर्न के संपर्क में आ चुके हैं। किशोर और अश्लीलता शीर्षक वाली रिपोर्ट में कुल 1,350 किशोर पर यह सर्वेक्षण किया गया, इसमें 13 से 17 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को शामिल किया गया था।

हुआ ये बड़ा खुलासा 

सर्वेक्षण में पता चला कि 58% प्रतिभागियों ने गलती से पोर्न देखा और वास्तव में इंटरनेट पर ऐसी सामग्री को देखने की कोशिश नहीं कर रहे थे। इनमें से 63% प्रतिभागियों ने यह भी कहा कि वे पिछले सप्ताह पोर्न के संपर्क में आए थे।

44% किशोर प्रतिभागियों ने खुलासा किया कि उन्होंने जानबूझकर ऑनलाइन पोर्नोग्राफ़ी देखी थी। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कई किशोरों को ऑनलाइन मल्टीप्लेयर गेम खेलने के दौरान बनाए गए दोस्तों के माध्यम से पोर्नोग्राफी से परिचित कराया गया था।

जानबूझकर पोर्न देखने वालों में से 38% प्रतिभागियों ने इसे इंस्टाग्राम और टिकटॉक जैसी सोशल मीडिया साइट्स पर देखा। भले ही टिकटॉक भारत में प्रतिबंधित है, लेकिन यह अभी भी दुनिया भर में उपलब्ध है।

44% प्रतिभागियों ने वास्तविक वेबसाइटों पर पोर्नोग्राफ़ी देखी जबकि 34% ने YouTube जैसी स्ट्रीमिंग सेवाओं का उपयोग किया। इसके अलावा, सर्वेक्षण से पता चलता है कि 16% किशोरों ने सब्सक्रिप्शन साइटों का इस्तेमाल किया और 18% ने पोर्न को ऑनलाइन लाइव स्ट्रीम किया।