Supply Chain Crisis: अब ये क्‍या, इस कंपनी ने ग्राहकों से कहा-बीयर पीकर बोतल करनी होगी वापस!

Supply Chain Crisis: जर्मनी में यूक्रेन से कांच का आयात घटने पर कांच की नई बोतलों का उत्‍पादन नहीं हो पा रहा. ऐसे में कंपन‍ियों ने ग्राहकों से कहा है क‍ि वे बीयर पीकर खाली बोतल को वापस कर दें. इससे बोतल को फ‍िर से इस्‍तेमाल क‍िया जा सकेगा. 

 
beer benefits

Supply Chain Crisis: पॉप्‍युलर फूड आइटम पॉपकॉर्न (Popcorn) से लेकर श्रीरचा सॉस (Sriracha Sauce) तक की कमी दुन‍ियाभर में बनी हुई है. गर्मी के सीजन के बीच इनकी कमी से यह साफ संकेत है क‍ि दुन‍ियाभर में आपूर्त‍ि काफी दवाब में है.

प‍िछले द‍िनों खाने-पीने की कुछ चीजें सप्‍लाई कम होने के कारण महंगी हो गई हैं. प‍िछले द‍िनों जर्मनी में बीयर की कीमत में भी भारी इजाफा हुआ है. इसकी सप्‍लाई कम होने से यह काफी मुश्‍क‍िल से म‍िल रही है.

बीयर पीने वालों के ल‍िए समस्‍या

जर्मनी में बोतलों की कमी ने बीयर पीने वालों के ल‍िए समस्‍या पैदा कर दी है. ऐसा रूस और यूक्रेन के बीच हुई जंग के कारण हुआ है. यूक्रेन की तरफ से जर्मनी में कांच की सप्‍लाई की जाती थी. यहां अल्‍कोहल लोगों के बीच काफी प्रचल‍ित है. जर्मनी पहले से ही ब‍िजली और जौ के ल‍िए बाजार की कीमत से ज्‍यादा भुगतान कर रहा है.

कंपन‍ियों ने खाली बोतल वापस करने के ल‍िए कहा

अब जब यूक्रेन की तरफ से जर्मनी में कांच की सप्‍लाई कम हो रही है तो यहां शराब बनाने वाली कंपन‍ियां ग्राहकों से खाली बोतल वापस करने के ल‍िए कह रही हैं. कांच की कमी के कारण नई बोतलों का उत्‍पादन नहीं हो पा रहा. जो उत्‍पादन हो रहा है, उसका दाम मार्केट रेट से काफी ज्‍यादा है. ऐसे में बाजार में बीयर सप्‍लाई करने के ल‍िए ग्राहकों से खाली बोतल वापस देने के ल‍िए कहा जा रहा है.

नई बोलत नहीं बनने का असर कारोबार पर

कंपन‍ियों का ग्राहकों से कहना है क‍ि नई बोतलों के उत्‍पादन में कमी आने के बीच ग्राहक बीयर पीकर बोतल वापस कर दें. इससे उन्‍हें फ‍िर से इस्तेमाल किया जा सकेगा. दरअसल, पर्याप्‍त बीयर की बोतल‍ का न‍िर्माण नहीं होने पर बीयर कारोबार प्रभाव‍ित हो रहा है. ऐसे में कंपन‍ियों ने कारोबार को क‍िसी तरह के असर से बचाने के ल‍िए बोतल वापस मांगना शुरू कर द‍िया है.

आपको बता दें प‍िछले द‍िनों रूस की तरफ से यूक्रेन पर आक्रमण क‍िए जाने के बाद अनाज और खाना पकाने का तेल काफी महंगा हो गया था.