IAS टीना डाबी के साथ 200 से ज्यादा ब्लैक कैट कमांडो को देख दंग चौके लोग, जानिए पूरा मामला
 
tina daabi

राजस्थान के जैसलमेर में पाकिस्तान से लगती सीमा के कारण आतंकवादियों की घुसपैठ का खतरा बना रहता है. इसी को लेकर गुजरात से आए NSG कंमाडोज ने शहर के पांच सितारा होटल में देर रात एक मॉक ड्रिल किया. इसमें आधुनिक हथियारों से लैस लगभग 200 से अधिक ब्लैक कैट कमांडो के साथ बीएसएफ और पुलिस के जवान शामिल हुए. इस दौरान जिला कलेक्टर टीना डाबी, एसपी भंवरसिंह नाथावत, एडीएम दाताराम, डीएसपी प्रियंका कुमावत समेत अन्य प्रशासनिक अधिकारी भी वहां पहुंचे और मोर्चा संभाला.

देर रात तक शहर में पुलिस, फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस समेत कई अन्य सरकारी गाड़ियों के सायरन बजते हुए देखकर लोग चिंतित हो गए. इस ड्रिल के दौरान बताया गया कि आतंकी होटल में घुस गए हैं. गेट पर ड्यूटी दे रहे गार्ड को भी गोली मारने की बात कही गई. सभी होटल कर्मचारियों और वहां रुके मेहमानों को बंधक बनाने का फ्लैश जारी किया गया. 

सूचना मिलते ही जैसलमेर से एनएसजी कमांडो दस्ता, सीमा सुरक्षा बल और पुलिस सहित अन्य सुरक्षा बलों के जवान और अधिकारी मौके पर पहुंचे.

आतंकी घटना की जानकारी मिलते ही सिविल डिफेंस की टीम, दमकल की गाड़ियां और एम्बुलेंस भी मौके पर पहुंच गईं. यातायात पुलिस ने ग्रीन कॉरिडोर बनाकर एनएसजी को सम रोड स्थित होटल तक पहुंचने में मदद की. 

घटनास्थल पर पहुंचने के बाद देर रात शुरू हुए ऑपरेशन में गुरूवार तड़के तीन बजे तक एनएसजी और पुलिस की टीमों  द्वारा ऑपरेशन चलाया गया. ड्रिल के दौरान कुछ ही देर में आतंकियों को मार गिराया और वहां मौजूद लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया. 

मॉक ड्रिल में आधुनिक हथियारों से लैस लगभग 200 से अधिक ब्लैक कैट कमांडो के साथ बीएसएफ और पुलिस के जवान शामिल हुए. इसमें आतंकियों के एक पांच सितारा होटल में घुसने से लेकर मुठभेड़ में मारने और लोगों को सुरक्षित निकालने की पूरी प्रक्रिया का अभ्यास किया गया.

पर्यटन के लिए चर्चित है जैसलमेर

बता दें कि जैसलमेर पर्यटन की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण क्षेत्र है, यहां लाखों की संख्या में देश-विदेश से सैलानी घूमने आते हैं. साथ ही कई सैलानी इस होटल के साथ ही होटल से कुछ दूरी पर स्थित सम सेंड ड्यून्स पर बने रिसॉर्ट्स में रुकते हैं.

ऐसे में होटल में आतंकी हमले की सूचना मिलते ही लोगों में एकबारगी सनसनी फैल गई थी. इससे पहले बड़ी संख्या में एनएसजी, बीएसएफ, पुलिस, दमकल और एम्बुलेंस की गाड़ियां जब शहर से होकर निकली तो शहरवासियों में चर्चा शुरू हो गई. हालांकि, बाद में एनएसजी द्वारा मॉक ड्रिल किए जाने की सूचना पर लोगों ने राहत की सांस ली.

गौरतलब है कि बीते दिनों जैसलमेर से लगती भारत-पाक सीमा से आतंकवादियों के घुसने की चेतावनी मिली थी. सीमा के पास संदिग्ध लोगों के पकड़े जाने के बाद सीमा सुरक्षा बल सहित विभिन्न सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट पर है और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कड़ी नजर रखी जा रही है.