My Story: मेरी बीवी मुझसे ऊब चुकी हैं, वह मेरे टाइप की नहीं है; अब मैं खुद को दिन-रात कोस रहा हूं
 
मेरी बीवी मुझसे ऊब चुकी हैं, वह मेरे टाइप की नहीं है; अब मैं खुद को दिन-रात कोस रहा हूं

सवाल: मैं 34 साल का एक शादीशुदा आदमी हूं। मैं पेशेवर रूप से बैंक में काम करता हूं। मेरी शादी को तीन साल हो गए हैं, लेकिन अब मुझे लगता है कि मैंने यह फैसला बहुत जल्दबाजी में ले लिया। दरअसल, बात कुछ ऐसी है कि करीब तीन महीने की डेटिंग के बाद मैंने अपनी पत्नी से शादी कर ली थी। शादी से पहले मैंने उसके साथ बहुत ज्यादा समय नहीं बिताया था। मुझे लगा था कि एक व्यक्ति के रूप में मैं उसे बेहतर ढंग से समझ चुका हूं। लेकिन वक्त के साथ मैंने यह महसूस किया है कि मैं गलत था। ऐसा इसलिए क्योंकि वह बिल्कुल भी मेरे टाइप की नहीं है।

शायद मेरे साथ यह समस्या इसलिए भी आ रही है कि क्योंकि मैं एक बहुत ही दयालु और देखभाल करने वाला व्यक्ति हूं। वहीं मेरी पत्नी का स्वभाव चालाक किस्म का है। वह न केवल बहुत ही कंजूस है बल्कि हर समय वह अपने बारे में ही सोचती है। हालांकि, वह भी मेरी तरह आर्थिक रूप से मजबूत है। लेकिन समस्या यह है कि वह अपनी पूरी सैलरी अपने कपड़ों की खरीदारी और घूमने-फिरने पर खर्च करती है। वहीं मैं अपना पूरा वेतन हमारे घर से जुड़ी हर छोटी से छोटी चीज पर खर्च कर रहा हूं।

c

यही नहीं, पिछले कुछ सालों में उसने मेरे माता-पिता को फोन करना भी बंद कर दिया है। एक ही शहर में होने के बावजूद हम अलग-अलग रहते हैं। मेरे और मेरी फैमिली से ज्यादा उसे अपने दोस्तों के साथ रहना अच्छा लगता है। कभी-कभी मुझे ऐसा लगता है कि मैं एक ऐसे व्यक्ति के साथ रह रहा हूं, जिसे मेरे साथ जीवन साझा करने में कोई दिलचस्पी नहीं है।

हालांकि, मैंने उसे एक बार बताया भी कि उसकी इन हरकतों की वजह से मुझे बहुत ज्यादा परेशानी महसूस हो रही है, तो उसने तुरंत जवाब देते हुए कहा कि उसे मुझसे प्यार नहीं हैं। मैं बहुत ही परेशान रहने लगा हूं। मुझे समझ नहीं आ रहा कि मुझे क्या करना चाहिए?

एक्सपर्ट का जवाब

मुंबई में रिलेशनशिप काउंसलर रचना अवत्रामणि कहती हैं कि पति-पत्नी के रिश्ते की शुरूआत प्यार-अफेक्शन और सम्मान से होती है। यह रिश्ता पूरी तरह रोमांटिक भावनाओं से प्रेरित होता है। वहीं जब इस बंधन में भावनात्मक रूप से कमी आती है, तो चीजें बिगड़ने लगती हैं। आपकी शादी में भी मुझे ऐसा ही कुछ देखने को मिल रहा है।

जैसा कि आपने कहा कि आपकी शादी को तीन साल हो गए हैं। लेकिन अब आपको लगता है कि आपकी पत्नी आपके टाइप की नहीं है। ऐसे में मैं आपसे यही कहूंगी कि सबसे पहले आप इस बात पर ध्यान दें कि विवाह के तीन साल अचानक से ऐसे क्या बदलाव आ गए, जिसने आपको यह सब सोचने पर मजबूर कर दिया। 

अपनी पत्नी से बात करें

आपने कहा कि आप एक उदार और देखभाल करने वाले इंसान हैं। लेकिन आपकी पत्नी का नेचर बिल्कुल भी ऐसा नहीं है। वहीं वह आपके जीवन में बिल्कुल भी दिलचस्पी नहीं रखती हैं और न ही उन्हें आपके परिवार से मतलब है। ऐसे में मैं यही कहूंगी कि सबसे पहले आप अपनी भावनाओं को अपनी पत्नी के साथ शेयर करें। उन्हें बताएं कि सबकुछ परफेक्ट होने के बाद भी आप इस शादी में तन्हा महसूस कर रहे हैं। वहीं उनसे पूछें कि आपके लिए उनका प्यार कब और क्यों खत्म हो गया।

इस दौरान मैं आपसे यह समझने के लिए कहूंगी कि अपनी शादी में उस कारण का पता लगाएं, जिसकी वजह से यह सब शुरू हुआ था। किस वजह से उनके व्यवहार में इतना बदलाव आया?

पत्नी के साथ इमोशनल बॉन्ड स्थापित करने पर जोर दें

मैं इस बात को अच्छे से समझ रही हूं कि जिन भावनाओं से आप गुजर रहे हैं, वह हर दिन आपको कमजोर बना रही होंगी। इसके इसके बाद भी मैं आपसे यही कहूंगी कि अपनी पत्नी के साथ इमोशनल बॉन्ड स्थापित करने पर जोर दें। अपनी शादी के पुराने दिनों को याद करें। उन्हें भी इस बात का एहसास कराएं कि आप उनसे कितना प्यार करते हैं। यही नहीं, आप चाहें तो इसमें अपने परिवार के किसी सदस्य की मदद भी ले सकते हैं।

मैं आपको बता दूं कि इस रिश्ते में कपल्स को एक-दूसरे की ज़रूरत को समझना और उनकी उम्मीदों पर खरा उतरना पड़ता है। ज़रूरतें फिजिकल भी हो सकती हैं और इमोशनल भी। कहीं ऐसा तो नहीं कि आप अपने पार्टनर को ना तो भावनात्मक सुख दे पा रहे हों और न ही सेक्सुअल। अगर ऐसा है, तो आप दोनों को ही साथ में अपने रिलेशन पर काम करने की जरूरत है।