रेल लाइन से जुड़ा हरियाणा का मेवात, इस रूट पर अब दौड़ेगी धड़ाधड़ ट्रेन
केंद्र सरकार की ओर से वेस्टर्न डेडिकेटेड रेलवे फ्रेट कॉरिडोर का काम तेजी से किया जा रहा है। इस कॉरिडोर से व्यापार गतिविधियों को भी बढ़ावा मिलने वाला है। वहीं हाल ही में इस कॉरिडोर पर डाउन लाइन ट्रायल रन भी किया गया है जो अब पूरा हो चुका है। इस ट्रायल रन के पूरा होने के बाद टीम भी काफी खुश नज़र आ रही हैं। इस रन को अभी कम स्पीड के साथ किया गया है।
 
railway

केंद्र सरकार की ओर से वेस्टर्न डेडिकेटेड रेलवे फ्रेट कॉरिडोर का काम तेजी से किया जा रहा है। इस कॉरिडोर से व्यापार गतिविधियों को भी बढ़ावा मिलने वाला है। वहीं हाल ही में इस कॉरिडोर पर डाउन लाइन ट्रायल रन भी किया गया है जो अब पूरा हो चुका है। इस ट्रायल रन के पूरा होने के बाद टीम भी काफी खुश नज़र आ रही हैं। इस रन को अभी कम स्पीड के साथ किया गया है।

जल्द किया जाएगा अप लाइन ट्रायल

कहा जा रहा है कि अब जल्द ही इस कॉरिडोर पर अप लाइन ट्रायल रन भी किया जाने वाला है। इस ट्रायल रन को तेज स्पीड के साथ किया जाएगा। इस ट्रायल रन के सफल होने के बाद इस कॉरिडोर पर मालवाहक रेल गाड़ियों की आवाजाही को भी शुरू कर दिया जाएगा।

वेस्टर्न डेडिकेटेड कॉरिडोर पर पूरा हुआ ट्रायल रन

बता दें कि वेस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर को बनाना केंद्र सरकार की महत्वकांशी योजनाओं में से एक है। इस योजना के अनुसार उत्तरप्रदेश के दादरी से मेवात हरियाणा के तावड़ू के ग्वारका स्टेशन तक 125 किमी लंबी रेल लाइन बिछाई गई है। नूह शहर को भी इस फ्रेट कॉरिडोर से काफी लाभ मिलने वाला है। कॉरिडोर अब तैयार हो चुका है और अब इस रेल लाइन पर डाउन लाइन ट्रायल रन भी पूरा हो चुका है। रेलवे का डीजल इंजन 30 जुलाई को रेवाड़ी से सुबह 10 बजे इस ट्रायल रन के लिए रवाना हुआ। ये इंजन 25-30 किमी की रफ्तार से चलाया गया है।

indianrailway

48 किलोमीटर तक चलाया गया इंजन

10 बजे चलकर ये रेल इंजन 2 बजे ग्वारका स्टेशन पहुँच गया। इस ट्रायल के दौरान इसमें 20-25 अधिकारी भी सवार थे। 48 किमी की दूरी तक ये ट्रायल किया गया था और इसे पूरा करने में 4 घंटे का समय लगा। ट्रायल खत्म होते ही टीम में भी खुशी का माहौल है। स्थानीय लोग भी इस ट्रायल को देखने के लिए पहुंचे थे। वहीं अब जल्द ही इसका अप लाइन ट्रायल रन भी किया जाने वाला है। इस अप लाइन ट्रायल को 100 किमी की रफ्तार के साथ किया जाएगा।

टर्मिनल बनने से लोगो को मिलेगा रोजगार

बताया जा रहा है कि यहाँ निजी क्षेत्र की कंपनियाँ भी अब टर्मिनल स्थापित कर सकती हैं और इससे लोगो को भी रोजगार मिल सकेगा। इस ट्रैक को पूरा करने में साढ़े 4 हज़ार करोड़ का खर्च आया है। अब अप लाइन ट्रायल होने के बाद ही इस कॉरिडोर पर माल गाड़ियों का आना जाना भी आसान हो जाएगा और साथ ही इससे व्यापार गतिविधियों को भी बढ़ावा मिलने वाला है।