अगर छोड़ देंगी ब्रा पहनना तो शरीर में होंगे ये बदलाव
 
अगर छोड़ देंगी ब्रा पहनना तो शरीर में होंगे ये बदलाव

महिलाओं के लिए ब्रा पहनना किसी टास्क से कम नहीं होता। ऐसा कितनी बार हुआ होगा कि आप ब्रा पहन कर ऑफिस या कहीं बाहर गई हों और घर आकर आपने उसे उतारकर राहत की सांस ली हो। यकीनन ब्रा अलग-अलग शेप और साइज में आती है,  लेकिन हर बार ही इसे पहनना एक बंधन जैसा लगता है। यकीनन इसे महिलाओं की जरूरत ही समझा जाता है, लेकिन फिर भी इसे कंफर्टेबल नहीं कहा जा सकता। 

ब्रा पहनना मजबूरी होता है, लेकिन क्या कभी सोचने की कोशिश की है कि ये इतना जरूरी क्यों है? सोशल जिम्मेदारी को थोड़ा परे रखें और महिलाओं के शरीर की बात करें तो भी ब्रा पहनने से काफी फर्क पड़ता है। 

वैसे तो ये पूरी तरह से महिला की च्वाइस पर निर्भर करता है कि उसे ये पहननी है या नहीं पर इसे न पहनने या इसे पहनने से शरीर में क्या बदलाव होते हैं ये हम आपको बताते हैं। 

गले में दर्द की हो सकती है शिकायत

जिन महिलाओं के ब्रेस्ट ज्यादा भारी होते हैं उन्हें सपोर्ट के लिए ब्रा की ज्यादा जरूरत होती है। अगर आपके ब्रेस्ट का कप साइज ज्यादा बड़ा है तो वो गर्दन पर स्ट्रेन देगा और इसके कारण गर्दन और कंधों में दर्द की शिकायत हो सकती है। 

हालांकि, कई लोग ब्रेस्ट से जुड़ी एक्सरसाइज, ब्रेस्ट रिडक्शन सर्जरी आदि के बारे में भी बात करते हैं, लेकिन एक अच्छी फिटिंग वाली ब्रा आपके लिए ज्यादा सुविधाजनक साबित हो सकती है। 

ऐसे मामलों में ब्रा पहनना ज्यादा सुविधाजनक साबित होगा। कम से कम जितने समय आपको काम करना है उतने समय तो आप इसे पहन कर रखें। 

बॉडी पॉश्चर पर असर डाल सकता है ब्रा न पहनना

आपके बॉडी पॉश्चर पर भी इस बात का असर पड़ सकता है। ये भी ब्रेस्ट के वजन पर निर्भर करता है जहां छोटे ब्रेस्ट वाली महिलाओं को ज्यादा परेशानी नहीं होगी और बड़े ब्रेस्ट वाली महिलाओं को ज्यादा होगी। 

पर छोटे ब्रेस्ट वाली महिलाओं के पॉश्चर पर भी थोड़ा असर पड़ सकता है। ऐसा ग्रैविटी के कारण होता है और ग्रैविटी के चलते हमारे कंधे झुकने लगते हैं। ऐसे मामलों में ब्रा एक्स्ट्रा सपोर्ट दे सकती है और ये रीढ़ की हड्डी से जुड़ी प्रॉब्लम्स को कम कर सकती है। 

एक्सरसाइज के वक्त ब्रेस्ट में होगी तकलीफ

अगर आप बिना ब्रा के एक्सरसाइज करने के बारे में सोच रही हैं तो भूल जाएं। ऐसा करने से एक्सरसाइज के दौरान ब्रेस्ट में तकलीफ होगी और भारी ब्रेस्ट वाली महिलाओं को तो ब्रेस्ट टिशू में दर्द भी महसूस हो सकता है। 

किसी भी तरह की एक्सरसाइज करने पर ब्रेस्ट में मूवमेंट होता है और ऐसे केस में आपको बहुत तकलीफ महसूस हो सकती है। ऐसे केस में सपोर्ट के लिए स्पोर्ट्स ब्रा ही ज्यादा फायदेमंद साबित होगी।  

ब्रेस्ट सैगिंग की हो सकती है समस्या 

जैसा कि हमने पहले बताया ग्रैविटी का असर ब्रेस्ट्स पर भी पड़ता है और बिना ब्रा के ज्यादा समय तक रहने पर ब्रेस्ट सैगिंग की समस्या हो सकती है।  

हैवी ब्रेस्ट वैसे भी सैगिंग का शिकार रहते हैं और ऐसे में ब्रा न पहन कर उन्हें सपोर्ट न देना उन्हें और भी ज्यादा खराब बना सकता है।   

इससे ब्रेस्ट में पेन और सैगिंग की समस्या बढ़ सकती है। ये जरूरी नहीं कि आप हर वक्त ब्रा पहने रहें, लेकिन हर वक्त इसे उतार कर रखना भी सही नहीं है।  

ब्रेस्टफीडिंग के दौरान हो सकता है फायदा 

यहां वायरलेस ब्रा कॉटन ब्रा की बात हो रही है जो ब्रेस्टफीडिंग के दौरान ज्यादा सुविधाजनक साबित हो सकती है। ये ब्रेस्ट में दर्द को थोड़ा कम कर सकती है। ये पीरियड्स के दौरान भी ब्रेस्ट को सपोर्ट दे सकती है जब ब्रेस्ट्स में टेंडरनेस होती है और ज्यादा दर्द होता है।  

यहां आपको ये ध्यान रखना होगा कि ब्रा वो ही चुनें जो कंफर्टेबल हो और पूरा कवरेज दे जिससे आपके ब्रेस्ट्स को परेशानी न हो।