दुपहिया वाहन पर बच्चे को गोद में बिठाने पर भी कटेगा चालान! जानिए मोटर व्हीकल एक्ट का ये नया नियम
हम में बहुत लोग स्कूटर या बाइक पर अपने बच्चों को साथ ले जाते हैं। आपने भी अक्सर ड्राइविंग के दौरान बच्चों को दोपहिया वाहन के आगे या पीछे बैठते जरूर देखा होगा। पर क्या आपको पता है कि ऐसा करने से आपका चालान कट सकता है और भारी जुर्माना देना पड़ सकता है।
 
दुपहिया वाहन पर बच्चे को गोद में बिठाने पर भी कटेगा चालान! जानिए

हम में बहुत लोग स्कूटर या बाइक पर अपने बच्चों को साथ ले जाते हैं। आपने भी अक्सर ड्राइविंग के दौरान बच्चों को दोपहिया वाहन के आगे या पीछे बैठते जरूर देखा होगा। पर क्या आपको पता है कि ऐसा करने से आपका चालान कट सकता है और भारी जुर्माना देना पड़ सकता है।

भारत में चार साल या उससे कम उम्र के बच्चों को दोपहिया वाहन पर ले जाने के लिए पीछले साल ही कुछ नियम लाए गए थें, जिसके बारे में आज हम आपको बता रहे हैं।

क्या है बच्चों को साथ ले जाने के नियम?

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा बच्चों की सुरक्षा के लिए जारी किए गए नियम के तहत अगर आप 9 महीने से लेकर 4 साल तक के बच्चों को किसी दोपहिया वाहन में साथ ले जाते हैं तो आपको सेफ्टी हार्नेस और बच्चे के सिर पर हेलमेट लगाना जरूरी है। हालांकि, फिलहाल इसे एक नियम के तहत लाया गया है और अगले साल फरवरी से अनिवार्य कर दिया जाएगा।

jagran

इन नियमों का ध्यान रखना भी है जरूरी

बच्चों की सेफ्टी के लिए उन्हे सेफ्टी हार्नेस और हेलमेट देने के अलावा यह भी ध्यान रखना जरूरी है कि अगर आप बच्चों को अपने साथ ले जाते हैं तो उस दौरान गाड़ी की रफ्तार 40 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक नहीं होनी चाहिए।

इसके आलवा, यह भी जरूरी कर दिया गया है कि र बच्चों को उनके नाप का हेलमेट लगाना होगा। हालांकि, इसके लिए फिलहाल कोई मानक नियम नहीं लाए गए हैं और परिवहन मंत्रालय इसके लिए अलग से स्टैंडर्ड जारी कर सकती है।

लग सकता है जुर्माना

दोपहिया वाहनों पर बच्चों को साथ ले जाने के नियम को अगर आप अनदेखा करते हैं तो नए यातायात नियम का उल्लंघन करने पर आपको 1,000 रुपये तक का जुर्माना लग सकता है। इसके अलावा तीन महीने तक ड्राइविंग लाइसेंस को रद्द भी किया जा सकता है।