बड़ी खबरें

सिरसा में स्वास्थ्य विभाग के आऊटसोर्सिंग कर्मचारियों ने डाला महापड़ाव, कामकाज हुआ ठप्प

स्वास्थ्य विभाग में आऊटसोर्सिंग पॉलिसी के तहत कार्यरत कर्मचारियों ने नौकरी से हटाए गए कर्मचारियों ने सर्व कर्मचारी संघ के बैनर तले जिला नागरिक अस्पताल में महापड़ाव डाल दिया है।

कर्मचारियों को पहले ही दिन एनएचएम कर्मचारी संगठन ने भी अपना समर्थन दे दिया है और विभाग को तीन दिन में नौकरी से हटाए गए कर्मचारियों को फिर से ज्वाइन करवाने का अल्टीमेटम दिया गया है। तीन दिन में कोई कार्रवाई नहीं हुई तो एनएचएम कर्मचारी आऊटसोर्सिंग कर्मचारियों के साथ कामकाज छोड़कर धरने पर बैठेंगे।

महापड़ाव कार्यक्रम की अध्यक्षताआऊटसोर्सिंग यूनियन की जिला प्रधान सुमित्रा ने की। मंच संचालन हेमन्त एवं ब्लॉक सिरसा प्रधान अमित कुमार ने किया। इस मौके पर सर्व कर्मचारी संघ के जिला प्रधान मदनलाल खोथ, जिला सचिव राजेश भाकर, रिटायर कर्मचारी संघ के महासचिव राजेन्द्र अहलावत ने संयुक्त रूप से बताया कि स्वास्थ्य विभाग में पिछले काफी समय से अंधी पीसे कुत्ता खाए वाली कहावत चरितार्थ हो रही है।

दिन-रात मेहनत कर विभाग की छवि सुधारने वाले कर्मचारी अधिकारियों व ठेकेदारों की मनमानी का शिकार हो रहे हैं। काम करने के बाद भी कर्मचारियों को बिना किसी कारण के नौकरी से हटा दिया जाता है। यही नहीं मीटिंग में बनी कमेटी के अधिकारियों की बात को भी अनसुना कर दिया गया।

ठेकेदारों की मनमानी का आलम ये है कि विभाग के महानिदेशक के आदेश भी उनके लिए मायने नहीं रखते। कर्मचारी नेताओं ने कहा कि विभाग कर्मचारियों का दोहरा शोषण कर रहा है। एक तो 24 घंटे काम लिया जा रहा है और उपर से दो से तीन माह तक वेतन भी नहीं दिया जा रहा, जिससे कर्मचारी मानसिक व आर्थिक रूप से भी परेशान हैं।

विभाग के अधिकारी अपने आप को जनता का सेवक न समझकर मालिक समझ बैठे हैं, लेकिन उन्हें इस बात को नहीं भूलना चाहिए कि जब भी आवाम सड़कों पर आया है, तब-तब क्रांति आई है। उन्होंने विभाग के अधिकारियों व ठेकेदार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर तुरंत हटाए गए कर्मचारियों को नौकरी पर नहीं रखा तो आंदोलन को तेज किया जाएगा, इस दौरान कोई अप्रिय घटना होती है तो उसके लिए ठेकेदार व विभाग के अधिकारी जिम्मेदार होंगे।

इस मौके पर कर्मचारी नेता भीम सोनी, राजेंद्र, दीपक, हेमन्त, सुदेश, पब्लिक हेल्थ से शिवचरण कंडारा, वरिष्ठ कर्मचारी नेता शिव कुमार शर्मा सहित अन्य कर्मचारी नेता उपस्थित थे।

एनएचएम कर्मचारियों ने आऊटसोर्सिंग कर्मचारियों को अपना खुला समर्थन दिया है। एनएचएम कर्मचारियों के प्रतिनिधिमंडल ने डिप्टी सिविल सर्जन डा. रोहताश को इस संबंधी एक ज्ञापन सौंपा है।

प्रतिनिधिमंडल में एनएचएम कर्मचारी संघ के सचिव डा. जगत, चालक जगदीश, विकास ढिल्लों, सुरेंद्र बैनीवाल, हरविंदर, ईएमटी नरेंद्र डाबड़ा, चरणजीत ऑपरेटर, चिराग सहित अन्य उपस्थित थे। उन्होंने बताया कि आऊटसोर्सिंग कर्मचारियों की मांगें जायज है।

काम करने के बाद भी कर्मचारियों को ठेकेदार व विभाग के अधिकारियों द्वारा प्रताडि़त किया जा रहा है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने विभाग को चेतावनी दी कि तीन दिनों में अगर हटाए गए कर्मचारियों को नौकरी पर नहीं रखा गया तो सभी एनएचएम कर्मचारी कामकाज छोड़कर धरनास्थल पर बैठेंगे।

इस दौरान अगर कोई अप्रिय घटना होती है तो उसके लिए विभाग जिम्मेदार होगा।

ताजा खबरें

To Top