बड़ी खबरें

रोहतक में पति पत्नी बेटी और सास की हत्या मामले में बड़ा खुलासा, बेटा ही निकला हत्यारा

 

हरियाणा के रोहतक में पति पत्नी, बेटी और सास की हत्या मामले में रोहतक पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। पुलिस ने इस हत्याकांड में आरोपी बेटे को काबू किया है। इस चौहरे हत्याकांड के पीछे क्या वजह रही है। इसकी जानकारी पुलिस जुटा रही है।

रोहतक के विजय नगर में एक परिवार के चार सदस्यों की हत्या मामले में रोहतक पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। हत्याकांड का मुख्य आरोपी पुत्र अभिषेक उर्फ मोनू ही निकला है। इस बात की जानकारी पुलिस अधीक्षक राहुल शर्मा ने प्रेस वार्ता कर दी है।

आज बुधवार सुबह साढ़े 9 बजे SP राहुल शर्मा प्रेस कॉन्फ्रेस करके मामले का खुलासा किया। वारदात को अंजाम देने की वजह थी प्रॉपर्टी विवाद और आपसी कहासुनी। पुलिस के अनुसार, प्रॉपर्टी बहन के नाम थी, जिस वजह से अभिषेक नाराज था। इसलिए उसने हत्याकांड को अंजाम दिया। पुलिस ने चार दिनों तक संदिग्धों से पूछताछ के बाद मुख्य आरोपी को सोमवार को पूछताछ के लिए उठाया और फिर सच सामने आया।

जानकारी के मुताबिक रोहतक जिले में झज्जर चुंगी स्थित शीतल नगर की बाघ वाली गली में तीन लोगों की हत्या कर दी गई थी, वहीं बेटी की हालत गंभीर थी लेकिन बेटी ने भी दो दिन बाद दम तोड़ दिया था।

son

इस हत्याकांड में पहलवान प्रदीप (45), उसकी पत्नी (40) व सास (60) की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि बेटी तमन्ना (17) के सिर में गोली थी जिसका दो दिन तक इलाज चला और इसके बाद मौत हो गई थी।

पुलिस जानकारी के अनुसार शीतल नगर( थाना शिवाजी कॉलोनी) में प्रदीप बबलू उम्र 45 साल इसकी पत्नी बबली उम्र 40 साल इसकी बेटी तमन्ना उम्र 17 साल व इसकी सास रोशनी उम्र 60 साल को अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी जिसमें प्रदीप उर्फ बबलू उसकी पत्नी बबली व सास रोशनी की मौके पर ही मौत हो गई और घायल लड़की तमन्ना उर्फ नेहा मलिक ने पीजीआई में दम तोड़ दिया।

हाउस नंबर 1192 /34 विजय नगर रोहतक (थाना शिवाजी कॉलोनी) में प्रदीप उर्फ बबलू उम्र 45 साल इसकी पत्नी बबली उम्र 40 साल इसकी बेटी तमन्ना उम्र 17 साल व प्रदीप की सास रोशनी उम्र 60 साल को अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी।

tamansna

बबलू के बेटे अभिषेक उर्फ मोनू ने बताई थी यह कहानी
मैं अपने दोस्तों के साथ एक होटल में खाना खाने गया था। दोपहर 2 बजे के बाद घर वापस लौटा तो घर का मेन गेट बिना कुंडी लगाए बंद था। नीचे के कमरे में गया तो दरवाजा बंद था। ऊपर कमरे में तो वहां का दरवाजा भी बंद मिला। मैंने दोनों दरवाजे खूब जोर-जोर से खटखटाए। मम्मी पापा सहित घर के अन्य नंबरों पर फोन भी मिलाया, मगर कोई जवाब नहीं मिला।

मेरे मन में बहुत डर पैदा हो गया तो मैंने अपने सांपला निवासी मामा को फोन मिलाया और पूरी बात बताई। मामा ने दरवाजा तोड़ने की सलाह दी। मैंने किसी तरह दरवाजे के लॉक को तोड़ा तो अंदर खून से लथपथ परिजनों को देख मेरे पैरों तले की जमीन खिसक गई। मेरी बहन जोर-जोर से सांस ले रही थी, जिसको वह तुरंत पीजीआई लेकर गया। फिर मामा को फोन करके सारी बात बताई और इसके बाद मैं बेहोश हो गया।

बता दें ‌कि 27 अगस्त की दोपहर को झज्जर चुंगी स्थित विजय नगर की बाग वाली गली में रहने वाले पेशे से प्रॉपर्टी डीलर और पहलवान प्रदीप उर्फ बबलू, उसकी पत्नी बबली, साथ रोशनी और बेटी तमन्ना को घर में घुसकर गोली मारी गई थी। बबलू, बबली और रोशनी की मौत मौके पर हो गई थी, जबकि तमन्ना में अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ा। वहीं हत्याकांड का मुख्य आरोपी अभिषेक उर्फ मोनू मृतक बबलू का इकलौता बेटा है और BA फर्स्ट ईयर, जाट कॉलेज का छात्र है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ताजा खबरें

To Top