Summer Vacation Plan: पंजाब के नजदीक इन 5 हिल स्टेशनों का कम बजट में करें भ्रमण, तीन दिन में आना-जाना संभव

गर्मियों की छुट्टियां नजदीक हैं। इन दिनों बच्चों के साथ कहीं घूमने जाना अच्छा रहेगा। आप जालंधर के नजदीकी हिल स्टेशनों का भ्रमण कर सकते हैं। आइए जानते हैं उन पांच हिल स्टेशनों के बारे में कम बजट में तीन दिन में आना-जाना संभव है।

 
Summer Vacation Plan: पंजाब के नजदीक इन 5 हिल स्टेशनों का कम बजट में करें भ्रमण, तीन दिन में आना-जाना संभव

भीषण गर्मी के बीच अगले कुछ दिनों में स्कूलों की छुट्टियां भी होने जा रही हैं। ऐसे में बच्चों के साथ किसी हिल स्टेशन पर घूमने जाना परिवार की खुशियां दोगुनी कर सकता है। कुछ दिन के लिए गर्मी से निजात भी मिल जाएगी। अक्सर लोग कश्मीर की वादियों या फिर नार्थ ईस्ट के राज्यों का रुख करते हैं।

अगर आपका बजट कम है तो आप जालंधर के नजदीक स्थित हिल स्टेशनों का भ्रमण कर सकते हैं। आइए जानते हैं, उन पांच हिल स्टेशनों के बारे में, जहां कम बजट में तीन दिन में आना-जाना संभव हो सकता है। डालते हैं इनकी विशेषताओं पर एक दृष्टि।   

1- मोरनी हिल्स - पंचकूला (हरियाणा राज्य)

यह हिल स्टेशन चंडीगढ़ से सटे पंचकूला (हरियाणा राज्य) में स्थित है। जालंधर से इसके दूरी लगभग 189 किमी है। यहां पहुंचने के लिए पहले बस या ट्रेन के जरिये चंडीगढ़ पहुंचना होता है। चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से इसकी दूरी मात्र 50 किमी है। चंडीगढ़ के रास्ते बस से जाने पर वोल्वो का किराया लगभग 460 रुपये प्रति व्यक्ति है। मोरनी हिल्स अपनी हरियाली और खूबसूरत झीलों के लिए जाना जाता है। पर्यटक यहां बोटिंग और ट्रेकिंग का भी आनंद उठा सकते हैं। वैसे भी पंचकूला को पांच नहरों का नगर (सिटी आफ फाइव कैनाल्स) माना जाता है। इसी कारण यहां का वातावरण हमेशा सुहावना बना रहता है।  

jagran

 2. नालागढ़, हिमाचल प्रदेश

यह जालंधर से मात्र 125 किमी दूरी पर स्थित है। यह नालागढ़ किला, रामगढ़ किला और गोबिंद सागर लेक के लिए प्रसिद्ध है। नालागढ़ को उसकी घनी हरियाली, सुहावने वातावरण और शिवालिक पहाड़ियों के शानदार दृश्यों के लिए जाना जाता है। नालागढ़ के एक तरफ शिवालिक पर्वत श्रेणी है तो दूसरी ओर हिमालय। इसकी घाटियों में कई किलों के खंडहर मौजूद हैं, जिनमें चंबा, सूरजपुर, रामगढ़ आदि शामिल हैं।  

jagran

3. परवाणू 

यह भी हिमाचल प्रदेश में स्थित एक हिल स्टेशन है जो कि जालंधर से मात्र 166 किमी दूरी पर स्थित है। इसे इसके टिंबर ट्रेल, केबल कार राइड और फल उद्यानों के लिए जाना जाता है। परवाणू में एक आम नगर की भीड़भाड़ के साथ हिल स्टेशन का आनंद भी उठाया जा सकता है। यह नगर हरियाणा और हिमाचल प्रदेश की सीमा पर स्थित है। ट्रेकिंग और हाइकिंग के लिए भी इसे आदर्श स्थान माना जाता है। परवाणू में आप पाइन और फर के वृक्षों के बीच सुहावने मौसम का आनंद ले सकते हैं। 

jagran

4. जम्मू - मंदिरों का नगर

मंदिरों के नगर के नाम से प्रसिद्ध जम्मू केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी है। यह स्थान जालंधर से मात्र 222 किमी दूर स्थित है। यह बहू किला, नंदिनी वन्य जीव अभ्यारण और नाथाटाप के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा भी परिवार के साथ घूमने जाने के लिए कई आकर्षक स्थान हैं। यहां के व्यंजनों का स्वाद लोगों को बहुत पसंद आता है। 

jagran

5. शिमला - क्वीन आफ हिल्स

उत्तर भारत में यह लोगों का सर्वाधिक पसंदीदा पर्यटन स्थल है। शिमला हिमाचल प्रदेश की राजधानी है। यह नगर द रिज, माल रोड और जाखू मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा शिमला-कालका टाय ट्रेन भी विश्व भर में प्रसिद्ध है। शिमला जालंधर से मात्र 219 किमी दूर है और यहां बस के जरिये कुछ ही घंटों में आसानी से पहुंचा जा सकता है।