JJP Candidate List: हरियाणा में निकाय चुनाव के लिए JJP ने उम्मीदवार घोषित किए, देखें पूरी लिस्ट
 
JJP Candidate List, हरियाणा में निकाय चुनाव के लिए JJP ने उम्मीदवार घोषित किए, देखें पूरी लिस्ट

- नगर निकाय चुनाव को लेकर जेजेपी ने उम्मीदवारों की घोषणा की
- चेयरमैन पद के लिए 8 प्रत्याशियों के नामों का ऐलान
- उचाना नगरपालिका में अनिल शर्मा होंगे उम्मीदवार 
- घरौंडा नगरपालिका में विनोद पाल को बनाया प्रत्याशी
- चीका नगरपालिका में रेखा रानी होंगी प्रत्याशी
- शाहाबाद नगरपालिका में गुलशन क्वात्रा चुनावी मैदान में होंगे
- जींद नगरपरिषद में रजनी अरोड़ा लड़ेगी चुनाव
- बहादुरगढ़ नगरपरिषद में कविता राठी होंगी प्रत्याशी
- भिवानी नगरपरिषद में शमां मान होंगे जेजेपी के प्रत्याशी
- नारनौल नगरपरिषद में कमलेश सैनी होंगी उम्मीदवार
- बाकी उम्मीदवारों के नाम भी जल्द करेंगे घोषित – अजय चौटाला

मतदान और मतगणना- चुनाव आयोग की तरफ से तारीखों के ऐलान के साथ ही प्रदेश में आचार संहिता लागू हो गई थी. कुल 46 निकायों में 19 जून को मतदान होगा. मतदाता सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे. जिन जगहों पर जरूरी हुआ तो 21 जून को पुनर्मतदान करवाया जाएगा. जबकि 22 जून को मतगणना होगी.

इन निकायों में चुनाव- 18 नगर परिषद और 28 नगर पालिकाओं में वोटिंग होनी है. जिनमें नारायणगढ़, रतिया, भूना, बरवाला, गोहाना, होड़ल, पलवल, सोहाना, मंडी डबवाली, चरखी दादरी, झज्जर, जींद, कैथल, हांसी, बहादुरगढ़, नरवाना, टोहाना, नूंह, कालका, नारनौंद, फतेहबाद, भिवानी, तरावड़ी, निसिंग, चीका, महम, राजौंद, पेहवा, उचाना, महेंदगढ़, शाहबाद, घरौंडा, सफीदों, गन्नौर, बावल, ऐलनाबाद, नांगल चौधरी, समालाखा, फिरोजपुर झिरका, पुन्हाना, असंध, लाडवा, रानियां, इसमाइलाबाद, सढौरा, कुंडली शामिल है.

शैक्षणिक योग्यता और खर्च की सीमा- अध्यक्ष और सदस्य पद के लिए चुनाव लड़ने वाले सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों का दसवीं पास होना जरूरी है. जबकि महिलाओं और अनुसूचित जाति वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 8वीं पास होना जरूरी है. वहीं सदस्य का पद लड़ने वाली एससी महिला के लिए शैक्षणिक योग्यता 5वीं होगी. इसके अलवा मतदाताओं के पास नोटा भी होगा विकल्प होगा. चुनाव आयोग के मुताबिक इस बार मतदाताओं को नोटा का विकल्प भी मिलेगा. यानि अगर किसी मतदाता को कोई भी उम्मीदवार पसंद नहीं आता है तो वो नोटा का बटन दबा सकता है. नोटा को सबसे ज्यादा वोट मिलने की स्थिति में वहां मतदान दोबारा होगा और हारे हुए प्रत्याशियों को मौका नहीं मिलेगा.