'वो भारत के लिए तीनों फॉर्मेट खेलेगा', MI के इस युवा के लिए रोहित शर्मा ने कह दी बड़ी बात
 
satr
नई दिल्ली, 13 मई: रोहित शर्मा ने मुंबई इंडियंस के युवा खिलाड़ी तिलक वर्मा की जमकर तारीफ की और कहा कि वह जल्द ही भारत के लिए तीनों प्रारूप खेलेंगे। तिलक ने सीजन में काफी चर्चाएं बटोरी हैं क्योंकि उन्होंने शानदार खेल दिखाया है जिसके दम पर मुंबई की टीम भविष्य में कम से कम अपने लिए एक स्टार देख सकती है। तिलक वर्मा ने मुंबई की टीम के लिए एक बार फिर 34 रनों की नाबाद पारी खेली। वह धोनी के बाद मैच के दूसरे टॉप स्कोरर साबित हुए।
verma

मुंबई इंडियंस का टॉप ऑर्डर एक बार फिर धराशाई

98 रनों का पीछा करते हुए मुंबई इंडियंस का टॉप ऑर्डर एक बार फिर धराशाई हो गया था। ऐसे में वर्मा ने एक नाबाद पारी खेलकर टीम को आराम से मैच जिता दिया।

एक समय, मुंबई इंडियंस 4 विकेट पर 33 रन बनाकर परेशान थी, लेकिन 19 वर्षीय तिलक और ऋतिक शौकीन ने 5वें विकेट के लिए 48 रन जोड़कर टीम को जीत की ओर बढ़ाया।

रोहित शर्मा ने महसूस किया कि तिलक वर्मा जल्द ही देश का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं। रोहित शर्मा भारत के कप्तान भी हैं। उनको लगता है यह युवा बल्लेबाज तीनों फॉर्मेट में देश के लिए खेल सकता है। यह बड़ी बात है।

रोहित का बड़ा बयान

रोहित शर्मा ने स्टार स्पोर्ट्स को बताया, "वह (तिलक) शानदार रहा है, पहले साल खेलना, इतना शांत दिमाग रखना कभी आसान नहीं होता। मुझे लगता है कि वह बहुत जल्द भारत के लिए एक ऑल-फॉर्मेट खिलाड़ी बनने जा रहा है। उसके पास तकनीक और स्वभाव है। और साथ में वह रनों की भूख है ही।"

तिलक वर्मा ने अब तक अपने पिछले मुकाबले में नाबाद 38 (बनाम केकेआर), 36 (बनाम पीबीकेएस), 26 (बनाम एलएसजी) और सीएसके के खिलाफ पहला आईपीएल अर्धशतक बनाया है। लेकिन तब एमएस धोनी ने गत चैंपियन के लिए हार के जबड़े से जीत छीन ली थी।

ये पिच गेंदबाजों की थी, बल्लेबाज रोहित को ये पसंद आया रोहित शर्मा ने कहा कि चेज के दौरान MI के ड्रेसिंग रूम में कुछ चिंता का माहौल भी हो गया था, उन्हें लगा कि गेंदबाजों को कभी-कभी ऐसी पिचें मिल जाती हैं जो उनकी मदद करती हैं। रोहित ने कहा, "यह देखते हुए कि पिच कैसे खेल रही थी और शुरुआती विकेट गंवाने के बाद कुछ चिंता के पल आए। यह सिर्फ शांत रहने और काम पूरा करने के बारे में था। हम थोड़े शांत थे और अंत में काम पूरा हो गया। रोहित ने कहा, "हमारे पास इस तरह की पिचें हैं। कई बार गेंदबाजों को खेल में लाना अच्छा होता है। वर्ना हर जगह बल्लेबाजी के अनुकूल माहौल रहा है, ऐसे में दोनों तरफ से उछाल और स्विंग देखना अच्छा था।" .