गांव का इतिहास बड़ी खबरें सरकारी योजनाएं सिरसा खबर सिरसा में खास हरियाणा

82 साल पहले अकाल में नेताजी सुभाष चंद्र बोस आए थे हिसार, समाचार पत्र ने छापा हिसार जिले में राष्ट्रपति

Netaji Subhash Chandra Bose visited Hisar 82 years ago in a famine, the newspaper published President in Hisar district

My Sirsa, Hisar

बात साल 1938 की है। जब लुधियाना से चली ट्रेन से 28 नवंबर के दिन नेताजी अकाल पीडि़तों का हाल जानने हिसार पहुंचे। नेताजी के इस एक दिन के दौरे के लाला हरदेव सहाय के मासिक अखबार ग्राम सेवक में शीर्षक प्रकाशित हुआ कि हिसार में राष्ट्रपति ने किया दौरा। डा. आरके श्रीवास्ताव सेवानिवृत सहायक निदेशक अभिलेखागार विभाग हरियाणा ने बताया उस समय अकाल (कहत) कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष को राष्ट्रपति कहकर संबोधित करते थे। उन्होंने बताया कि तब हिसार में करीब 80 लाख एकड़ भूमि में बस तीन लाख एकड़ जमीन ही कृषि लायक थी। 80 फीसद भूमि बंजर थी। ऐसा भयंकर अकाल पड़ता था कि अनाज जमीन पर उगे घास को देखने के लिए लोग तरस जाते थे।

Netaji Subhash Chandra Bose visited Hisar 82 years ago in a famine, the newspaper published President in Hisar district

50 हजार गायों की हुई थी मौत, कोडिय़ों के भाव बेचे पशु

1938 के अकाल में हिसार जिले में  भूख के मारे 50 हजार गायों ने दम तोड़ दिया तो चारे की कमी जूझ रहे हिसार के लोगों ने मजबूरीवश 2 लाख पशुओं को कोडिय़ों के भाव बेच दिया था। ज्यादातर लोगों की हालत ऐसी थी कि शरीर पर चमड़ी कम और कंकाल ज्यादा नजर आता था। कांग्रेस अकाल(कहत)कमेटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के नाते नेताजी की ओर हर कोई उम्मीद भरी नजरों से देख रहा था।

Netaji Subhash Chandra Bose visited Hisar 82 years ago in a famine, the newspaper published President in Hisar district

कहा था, हम गुलाम न होते तो अकाल से भी निपट लेते

कटला रामलीला मैदान में संबोधन के दौरान नेताजी ने कहा कि हमारी सारी तकलीफों की जड़ गुलामी है। अगर हम गुलाम न होते तो अकाल अगर पड़ता भी तो इससे निपटने के इंतजाम पहले ही कर लेते। ब्रिटिश सरकार ने सुध ही नहीं ली। वे मंच पर पहुंचे तो शेख बदरूदीन ने उनके स्वागत में नज्म पढ़ी थी। बाबू पृथ्वीचंद ने स्वागत भाषण पढ़ा तो उनके साथ पंडित नेकीराम शर्मा, लाला हरदेव सहाय, लाला सत्यनारायण, पंडित कुंजलाल ने भी मंच साझा किया। रामलीला कटला मैदान की जनसभा के संबोधन के बाद नेताजी टिब्बा दानाशेर के लिए निकल गए। जहां पशुओं के इलाज और उनकी भोजन व्यवस्था करने के लिए बांबे शिव दया मंडल संस्था व्यवस्था संभाल रही थी। वहां देखरेख के बाद वे पास के ही गांव धांसू में पहुंचे और भूख से जूझ रहे कंकालनुमा हो चुके लोगों को देखा तो दुखी और भावुक हो गए। यहां से वे छोटी सातरोड गांव में बनी शिल्पशाला पाठशाला भी गए।

Netaji Subhash Chandra Bose visited Hisar 82 years ago in a famine, the newspaper published President in Hisar district

हाथों से खादी वस्त्र बनाते बच्चों को देख हो गए थे खुश

हिसार में भोजन करने के बाद उन्हेंं लाला हरदेव सहाय उनके गांव छोटी सातरोड के उस स्कूल में लेकर पहुंचे जिसे शिल्पशाला के नाम से जाना जाता था।  जिसे 1930 में उनके दादा रामसुखदास ने बनाया था ताकि यहां बच्चों को निशुल्क शिक्षा दी जा सके। साथ ही यहां विद्यार्थी खुद सूत कातकर खद्दर के वस्त्र बनाते थे और मिलने वाले धन को उनके भविष्य निर्माण पर खर्च किया जाता। गुलामी और धन के अभाव के बावजूद यहां बच्चों को एक वक्त का खाना भी दिया जाता था। सातरोड निवासी मास्टर पंजाब ने बताया कि नेताजी ने यहां पहुंचे तो जमीन पर बने हरियाणा पंजाब के नक्शे और खादी वस्त्रों को देखकर खुश हो गए। उन्होंने इस बात का जिक्र वहां रखी विजटिंग बुक में भी किया। यहां से वे हांसी,मुंढाल, भिवानी होते हुए रोहतक पहुंचे। रोहतक में देर शाम उनके स्वागत में लोगों ने मशालें जलाकर रोशनी की।

Netaji Subhash Chandra Bose visited Hisar 82 years ago in a famine, the newspaper published President in Hisar district

नेताजी ने स्‍वागत जुलूस निकालने से किया इनकार

अकाल के कारण जो हालात बन पड़े थे उसके कारण नेताजी बेहद दुखी थी। जब वे हिसार रेलवे स्‍टेशन पर पहुंचे तो लोगों ने भव्‍य स्‍वागत की तैयारी कर रखी थी। खद्दर का धोती कुर्ता और सिर पर टोपी पहने नेताजी के स्‍टेशन पर पहुंचते ही लोग गर्मजोशी से भर गए और फूल मालाएं पहनाना शुरू कर दिया। लोगों ने नेताजी से कहा कि वे ठाकुरदास भार्गव के निवास स्‍थान तक स्‍वागत जुलूस निकालाना चाहते हैं। मगर नेता जी ने कहा कि यह अवसर ठीक नहीं है। इसलिए सादे तौर ही चीजों को करना ठीक रहेगा। नेताजी ने कहा कि अकाल के कारण यह शोभा नहीं देगा। उनकी यह बातें ग्राम सेवक अखबार में प्रकाशित भी हुई।

Related posts

24 घंटे में दूसरी सूची जारी कर SSP ने 135 थानों के हेडकांस्टेबल का किया तबादला, देखिए पूरी लिस्ट

admin

सरकारी स्कूलों में पहले दिन गाइडेंस लेने पहुंचे 22508 से ज्यादा विद्यार्थी

admin

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री को हुआ कोरोना, कुछ दिन पहले लगवाया था वैक्सीन का टीका

admin
Share this
Join Our Group