किसान की बेटी मुस्कान का कमाल, बिना कोचिंग पहले ही प्रयास में पास की UPSC परीक्षा, ऐसे करती थी पढ़ाई
झज्जर जिले के गांव सेहलंगा के किसान परिवार की बेटी मुस्कान डागर ने भी अपने पहले प्रयास में परीक्षा उत्तीर्ण कर जिले व गांव का गौरव बढ़ाया है और 471वां रैंक हासिल किया है।
 
 
haryana news, upsc result, jhajjar news, upsc civil service result, haryana news today live, haryana news live today in hindi, haryana news in hindi, haryana news today, haryana news today in hindi, Haryana Samachar, top haryana news, latest haryana news, Haribhoomi News, हरियाणा न्यूज़, हरियाणा समाचार, हरियाणा समाचार हिंदी में, हरिभूमि समाचार, झज्जर समाचार, यूपीएससी रिजल्ट, सिविल सर्विस परीक्षा

संघ लोक सेवा आयोग द्वारा घोषित सिविल सेवा परीक्षा 2021 ( Upsc Result ) के फाइनल परिणाम में जहां टॉप थ्री में लड़कियों ने बाजी मारी वहीं झज्जर जिले के गांव सेहलंगा के किसान परिवार की बेटी मुस्कान डागर ने भी अपने पहले प्रयास में परीक्षा उत्तीर्ण कर जिले व गांव का गौरव बढ़ाया है और 471वां रैंक हासिल किया है।

खास बात यह रही कि मुस्कान ने इसके लिए कहीं कोई विशेष कोचिंग नहीं ली। दिल्ली यूनिवर्सिटी से बीएससी नॉन मेडिकल कर चुकी मुस्कान ने कहा कि उसने अपने माता-पिता का सपना साकार करने के लिए रात-दिन एक करते हुए नियमित चौदह-चौदह घंटे तक पढ़ाई की।

उसके इस लक्ष्य को हासिल करने में उसके भाई दक्ष डागर, उसकी मां प्रतिभा, पिता विकास डागर, दादी फूलवती व दादा राममेहर का भी पूर्ण सहयोग रहा। उनकी ही प्रेरणा से उसने यूपीएससी की परीक्षा दी। मुस्कान के पिता विकास डागर ने कहा कि वे जमींदारा करके अपने परिवार का गुजारा चलाते हैं। जहां उनके पिता राममेहर रिटायर्ड बैंक कर्मचारी है वहीं उनकी पत्नी भी एमए पास है।

शिक्षित परिवार के होने के चलते उन्होंने होनहार मुस्कान को ग्रेजुएशन के बाद यूपीएससी की परीक्षा के लिए प्रेरित किया। उन्होंने बताया कि पढ़ाई में तेज होने के चलते मुस्कान ने पिछले दो वर्षों से इस परीक्षा की तैयारी की तथा अपने पहले ही प्रयास में 471वें रैंक के साथ परीक्षा उत्तीर्ण कर यह मुकाम हासिल कर दिखाया।

उन्होंने बताया कि मुस्कान की दादी बेशक अनपढ़ है लेकिन वर्तमान के समय को देखते हुए वह भी पढ़ाई के महत्व से भली-भांति परीचित है। उसने भी अपनी पौती का सदैव उत्साहवर्धन किया। होनहार बेटी की इस उपलब्धि पर पूरे गांव में खुशी का माहौल है। बधाई देने वालों का उनके घर में तांता लगा है।