खुशखबरी! इस योजना के तहत दलहनी व तिलहनी फसलें उगाने पर किसानो को मिलेंगे 7 हजार रुपये प्रति एकड़
 
subsidy on daal seeds

उपायुक्त प्रदीप दहिया ने बताया कि हरियाणा सरकार किसानों के हित के लिए हर समय तत्परी है। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए हरियाणा सरकार ने मेरा पानी-मेरी विरासत स्कीम के तहत दलहनी फसलें जैसे मूंग, अरहर, मोंठ, उड़द, सोयाबीन व ग्वार और तिलहनी फसलें जैसे तिल, अरंडी, मूंगफली व चारा उगाने वाले किसानों को 7 हजार रुपये प्रति एकड़ देने की घोषणा की है।

इस स्कीम का लाभ पाने के लिए किसानों को मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है। रजिस्ट्रेशन की समयावधि 15 मई से 30 जून निर्धारित की गई है। इस स्कीम का उद्देश्य दलहनी, तिलहनी व चारे की फसल लगाकर पानी की बचत करना है।

इस बारे में जानकारी देते हुए कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उप निदेशक डॉ. कर्मचंद ने बताया कि यह स्कीम अपनाने वाले किसानों का संबंधित कृषि विकास अधिकारी, पटवारी तथा नम्बरदार की संयुक्त टीम द्वारा भौतिक सत्यापन किया जाएगा। सभी किसानों से अनुरोध है कि किसान भाई इस स्कीम को अपनाएं ताकि भूजल स्तर को गिरने से बचाया जा सके।

किसान अपनी फसलों का पंजीकरण स्वंय मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर जाकर कर सकता है अथवा अटल सेवा केन्द्र की मदद भी ले सकता है। अधिक जानकारी के लिए संबंधित कृषि विकास अधिकारी या उप कृषि निदेशक, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग में संम्पर्क कर सकता है।