Haryana Roadways: हरियाणा रोडवेज बसों को हो रहा है भारी नुकसान, हर किलोमीटर पर हो रहा है इतना घाटा

 
sdagfsegw

Haryana Roadways: हरियाणा में आम लोगों की सुविधा के लिए हरियाणा Roadways की तरफ से सरकारी बसें चलाई जा रही है. 
 हरियाणा रोडवेज को बसों में कभी फायदा तो कभी नुकसान भी उठाना पड़ जाता है. 
फिलहाल इन दिनों Roadways को काफी घाटा उठाना पड़ रहा है. 
हरियाणा रोडवेज को अपनी बसों को चलाने में प्रति किलोमीटर 72.83 रुपए खर्च करने पड़ते हैं जबकि आमदनी केवल 39.23 रूपये की ही हो रही है. 
बता दे कि साल 2014- 15 में हरियाणा रोडवेज को करीब 447 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था. 
2014-15 में रोडवेज की कुल प्राप्तियां 37.22 रुपए प्रति किलोमीटर के मुकाबले 26.89 रुपए प्रति किलोमीटर हो रही है. 
वहीं पर 2021-22 में Roadways को 931 करोड रुपए का घाटा सहन करना पड़ा. 
रोडवेज ने 38.56 रुपए प्रति किलोमीटर के हिसाब से प्राप्तियां अर्जित की, जबकि खर्च बढ़कर 73.45 रुपए प्रति किलोमीटर रहा था. 
वहीं साल 2022- 23 में घाटा बढ़कर 995.92 करोड रुपए हो गया है. फिलहाल राज्य में कुल 3,143 बसे हैं जोकि प्रतिदिन औसतन 8.88 लाख किलोमीटर की दूरी तय करती है.

साल 2021- 22 मे रोडवेज बसों की दैनिक सकल दूरी 6 लाख Km और दैनिक यात्रियों की संख्या 4 लाख से अधिक थी. 

इसके अलावा सरकार 2,200 नई बसें Roadways बेड़े में शामिल करने की योजना बना रही है. इसके अलावा टिकटों में हो रही गड़बड़ रोकने के लिए सरकार ने रोडवेज बसों में ई- टिकटिंग प्रणाली लागू की है. 

वही दूसरी तरफ 6 जिलों में पायलट आधार पर नेशनल कॉमन मोबिलिटी Card का प्रयोग शुरू किया गया है, जिसे पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा. 

इसके अलावा Roadways ने गड़बड़ियों को रोकने के लिए बसों में सेंसर प्रणाली लागू करने का प्रस्ताव भी दिया है.

परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि यात्रियों की सुविधा के लिए रोडवेज Bus चलाई जा रही है, ना कि नफे और नुकसान के लिए. 

राजस्व घाटे को रोकने और हो रही गड़बड़ियों पर काबू पाने  के लिए ई- टिकटिंग प्रणाली लागू की गई है. 

इस प्रणाली के द्वारा गड़बड़ियों पर तो रोक लगेगी साथ में ही Income में भी वृद्धि होगी. 

कोरोना महामारी के समय भी हरियाणा रोडवेज को काफी घाटा उठाना पड़ा था.