Sonali Phogat Case: सोनाली फोगाट हत्‍याकांड में बड़ा खुलासा, इस कारण से गई सोनाली की जान
 
sonali phogat

फतेहाबाद :- बीजेपी की फायर ब्रांड नेता रही सोनाली फोगाट की मौत फेफड़ों और दिमाग में सूजन से हुई है. इसके अलावा उनके शरीर में मैथेफेटेमाइन, एमफेटेमाइन सहित कई ड्रग्स और शराब के तत्‍व मिले हैं, जिसके कारण उनके फेफड़े और दिमाग में सूजन आ गई.

ये खुलासा चंडीगढ़ Lab द्वारा सीबीआइ को सौंपी गई Sonali Phogat के फोरेसिंक विसरा रिपोर्ट में किया गया है. CBI ने मंगलवार को इस मामले में अपनी पहली चार्जशीट दाखिल की है जिसमें सोनाली के PA रहे सुधीर सांगवान व सुखविंदर पर हत्या के आरोप लगाते हुए उन्हें आरोपित बनाया गया है.

एक हजार से अधिक पेजों की इसी चार्जशीट के साथ CBI ने 70 पेजों की फोरेसिंक रिपोर्ट की एक कापी भी सलंग्र की है. 

सीबीआइ के अधिकारी इस मामले में खुलकर कुछ भी नहीं कह रहे, लेकिन सुधीर सांगवान के वकील एडवोकेट अमित जागलान ने मीडिया से बातचीत में चार्जशीट व फोरेसिंक रिपोर्ट दाखिल किए जाने की पुष्टि की है. एडवोकेट अमित जागलान मंगलवार को कोर्ट में उपस्थित रहे।

सीबीआइ ने कोर्ट में दाखिल की गई चार्जशीट में जांच स्टेटस को धारा 173 (8) के तहत ओपन रखा है ताकि आगे और सबूत मिलने पर इसमें शामिल किए जा सकें. सुधीर-सुखविंदर के वकील अब इस चार्जशीट और फोरेसिंक रिपोर्ट के अध्यन्न के बाद अगले कदम उठाने के बारे में कह रहे हैं. कोर्ट में मामले की अगली सुनवाई पांच दिसंबर को होगी. 

चार्जशीट में प्रापर्टी को बताया हत्या की वजह 

सीबीआइ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सुधीर-सुखविंदर के खिलाफ दाखिल की गई चार्जशीट में सुधीर सांगवान व सुखविंदर सिंह पर सोनाली फोगाट की जबरन ड्रग्स देकर हत्या करने का आरोप लगाया है.

इस चार्जशीट में सीबीआइ ने सोनाली फोगाट की हत्या के पीछे की वजह उनकी प्रापर्टी को बताया है. सीबीआइ का आरोप है कि सुधीर-सुखविंदर की नजर सोनाली फोगाट की प्रापर्टी पर थी. इस मामले में शुरू से ही सोनाली फोगाट की हत्या के पीछे प्रापर्टी को एक बड़ी वजह माना जाता रहा है.

गोवा पुलिस और सीबीआइ टीमों ने हरियाणा में आकर जांच के दौरान भी सोनाली की प्रापर्टी पर ही अपनी जांच का दायरा सीमित रखा था. 

गैर इरादतन हत्या में तब्दील करने का प्रयास करेगा बचाव पक्ष 

सीबीआइ द्वारा सोनाली फोगाट हत्याकांड मामले में दाखिल की गई चार्जशीट के बाद अब बचाव पक्ष अपनी दलीलें तैयार करने में जुट गया है. पहले ये माना जा रहा था कि अगर सीबीआइ अपनी चार्जशीट दाखिल नहीं करती है तो अगली सुनवाई पर सुधीर-सुखविंदर के वकील कोर्ट में उनकी जमानत याचिका दाखिल कर देंगे.

लेकिन अब नए घटनाक्रम में चार्जशीट के साथ फोरेसिंक रिपोर्ट भी सबमिट कर दी गई है. ऐसे में बचाव पक्ष अब पहले इन दोनों कागजात को अच्छे से अध्यन्न करने की बात कह रहा है। इसके बाद ही अगले कदम पर विचार किया जाएगा.

हालांकि सूत्रों की मानें तो बचाव पक्ष की पहली कोशिश इस मामले में हत्या की धारा को हटवाकर गैर इरादतन हत्या की धारा को शामिल करवाने की हो सकती है. 

पहले हार्ट-अटैक, फिर हत्या की बात आई थी सामने 

इसी साल 22 अगस्त की सुबह सोशल मीडिया सनसनी एवं बीजेपी नेत्री सोनाली फोगाट की अचानक मौत की खबर आने से सभी हैरान हो गए थे. शुरूआती तौर पर गोवा सरकार द्वारा सोनाली फोगाट की मौत के पीछे हार्ट अटैक को कारण बताया गया था.

इस बीच गोवा पहुंचे उनके भाई व अन्य स्वजनों ने इस मामले में सुधीर-सुखविंदर की भूमिका पर संदेह जताते हुए सोनाली फोगाट की हत्या की बात कही. जिसके बाद लगभग दो दिन तक विवाद की स्थिति के बाद आखिरकार सोनाली फोगाट के स्वजन पोस्टमार्टम के लिए मान गए.