हनुमानगढ़ में कर्फ्यू जारी, धारा 144 लागू, हरियाणा से आने वाले रास्तों पर नजर

हनुमानगढ़ के भादरा में फिलहाल माहौल शांतिपूर्ण है और पुलिस जाब्ता तैनात है और हालात और सुधरने पर कर्फ्यू में कुछ ढील दी जा सकती है.

 
हनुमानगढ़ में कर्फ्यू जारी, धारा 144 लागू, हरियाणा से आने वाले रास्तों पर नजर

Bhadra : राजस्थान के हनुमानगढ़ के चिड़ियागांधी गांव में ईद के दिन गोकशी की घटना के बाद उठे विवाद के बाद अब चिड़ियागांधी गांव में माहौल शांतिपूर्ण है. चिड़ियागांधी में बुधवार को हुए उपद्रव के बाद जिला प्रशासन ने चिड़ियागांधी और गांधीबड़ी गांव में कर्फ्यू लगा दिया था, जबकि चौथे दिन भी भादरा उपखंड क्षेत्र में नेट बंदी जारी रही.

हनुमानगढ़ जिले में धारा 144 लागू है. बुधवार को हुए उपद्रव के बाद गुरुवार को बीकानेर रेंज प्रभारी एडीजी पोन्नूचामी, संभागीय आयुक्त बीकानेर नीरज के पवन चिड़िया गांधी पहुंचे और हालातों का जायजा लिया, जबकि जिला कलक्टर नथमल डिडेल और पुलिस अधीक्षक डॉ अजय सिंह राठौड़ कल से ही भादरा में कैंप किए हुए हैं.

nn

जिला कलक्टर नथमल डिडेल और एसपी अजय सिंह का कहना है कि फिलहाल माहौल शांतिपूर्ण और पुलिस जाब्ता तैनात है और अगर कल भी माहौल शांतिपूर्ण रहा तो कर्फ्यू में कुछ ढील दी जा सकती है और हो सकता है कि भादरा उपखंड में इंटरनेट को भी शुरू कर दिया जाए.

एसपी अजय सिंह का कहना है कि पुलिस पूरी तरह सतर्क है और हरियाणा से आने वाले रास्तों पर लगातार निगाह रखी जा रही है, ताकि कोई बाहरी व्यक्ति आकर क्षेत्र के माहौल को खराब ना कर सकें. कर्फ्यू क्षेत्र में जिला कलेक्टर नथमल डिडेल, जिला पुलिस अधीक्षक डॉ अजय सिंह राठौड़ के साथ भादरा उपखंड अधिकारी शकुंतला चौधरी, नोहर उपखंड अधिकारी श्वेता कोचर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुरेश जागिड़, तहसीलदार जय कौशिक, डीएसपी सुनील झाझडिया, भादरा थाना प्रभारी रणवीर साई, भिरानी थाना प्रभारी ओमप्रकाश सुथार, गोगामेडी थाना प्रभारी अजय कुमार सहित अन्य पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों सहित बड़ी संख्या में पुलिस जाब्ता भी तैनात रहा.

b

गांव के सिरसा बाईपास पर प्रवेश के साथ ही जगह जगह नाकाबंदी और अस्थाई पुलिस पोस्ट नजर आई. हरियाणा की ओर से आने जाने वाले वाहनों को भी अन्य मार्गों से भेजा जा रहा है. विशेष साधनों को प्रवेश के समय गाड़ी नंबर सहित पूरी जानकारी रजिस्टर में नोट की जा रही हैं.

गांधी गांव के इतिहास में पहली बार कर्फ्यू लगा है, जिसको लेकर ग्रामीणों बेचैन दिखे। ग्रामीण घरों में ही बंद रहने को मजबूर हैं, तो वहीं उपखंड क्षेत्र में इंटरनेट बंद होने के चलते मोबाइल भी मात्र बात करने का साधन मात्र रह गए है. हर कोई जानने को उत्सुक लगा कि इंटरनेट कब तक बहाल होगा.