पेड़ से लटका मिला कांग्रेसी नेता का शव, पैर जमीन पर टिके हुए थे, पुलिस आत्महत्या के कारणों का अभी तक पता नहीं लगा पाई है

मृतक लालचंद पूर्व में सरपंच रहे हैं व मौजूद समय में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और खेती का कार्य करते थे। हालांकि अभी तक यह पता नहीं चला है कि उन्होंने फांसी लगाकर आत्महत्या क्यों की है। पुलिस इस मामले में सभी एंगल पर जांच करने में जुटी हुई है।

 
g

सिरसा जिले के गांव मुन्नावाली के पूर्व सरपंच व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता लालचंद कासनियां ने अज्ञात कारणों के चलते फांसी लगाकर जान दे दी। उनका शव गांव के जलघर में संदिग्ध हालत में पेड़ पर लटका पाया गया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जानकारी के अनुसार मुन्नावाली के जलघर में बुधवार सुबह पेड़ पर लटका एक शव दिखाई दिया। गांव में खबर लगते ही ग्रामीणों की भीड़ घटनास्थल पर इकट्ठा हो गई। सूचना मिलने पर गोरीवाला पुलिस भी मौके पर पहुंची। मृतक लालचंद कासनियां द्वारा आत्महत्या किए जाने की आशंका जताई जा रही है। मृतक लालचंद पूर्व में सरपंच रहे हैं व मौजूद समय में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और खेती का कार्य करते थे। 

 हालांकि अभी तक यह पता नहीं चला है कि उन्होंने फांसी लगाकर आत्महत्या क्यों की है। पुलिस इस मामले में सभी एंगल पर जांच करने में जुटी हुई है। वहीं प्रथम दृष्टि से तो ये मामला आत्महत्या किए जाने का लग रहा है, लेकिन पेड़ पर इतनी कम ऊंचाई व शव के पैर जमीन पर टिके होने से फंदा लगाकर आत्महत्या किए जाने को लेकर मामला संदेहास्पद भी बना हुआ है। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

 पुलिस को दी शिकायत में मुन्नावाली निवासी विनोद कुमार ने बताया कि उसका परिवार खेतीबाड़ी करता है। वे दो भाई व एक बहन है। तीनों शादीशुदा है। उनका संदीप पुत्र महाबीर, सुभाष पुत्र महाबीर, महाबीर पुत्र इन्द्राज निवासी मुन्नावाली के साथ काफी समय से जमीनी विवाद चल रहा है।

साथ ही बिमला पत्नि हेतराम ने भी उपरोक्त लोगों के साथ मिलकर उसके पिता के खिलाफ एक झूठा शपथ पत्र दिया था। उसके पिता लालचन्द काफी शान्त स्वभाव के व्यक्ति थे और परिवार को अक्सर साथ लेकर चलते थे और विवाद को खत्म करने की कोशिश किया करते थे। लेकिन इन लोगों ने जमीनी विवाद को लेकर उसके पिता को इतना परेशान कर दिया था

 कि वे अक्सर घर पर मरने की बात किया करते थे। रात को वह खेत में पानी लगाने गया था। जब बुधवार सुबह करीब 6 बजे घर वापिस आया तो उसके पिता घर नहीं थे। जब वे उनकी तलाश में जलघर की तरफ गए तो वहां एक किकर के पेड़ पर उसके पिता रस्सी से लटके हुए थे और उस समय उनकी मौत भी हो चुकी थी। इसके बाद इसकी सूचना गोरीवाला पुलिस को दी गई और पुलिस मौके पर पहुंची।

गोरीवाला पुलिस चौकी इंचार्ज सोमित कुमार ने बताया कि मृतक के बेटे विनोद कुमार के बयान पर संदीप, सुभाष, महावीर व बिमला के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और पुलिस मामले की गहनता से जांच कर रही है। मौत की वजह आत्महत्या है या हत्या उसके बारे में पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा।