हरियाणा

सिरसा में अनाज मंडी, सब्जी मंडी और लक्कड़ मंडी के लिए 56 एकड़ से ज्यादा भूमि खरीद को मंजूरी, जानिये कहां मिलेगी जगह ?

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई हाई पावर लैंड परचेज कमेटी (एचपीएलपीसी) की बैठक में सिरसा में अतिरिक्त अनाज मंडी, सब्जी मंडी और लक्कड़ मंडी के लिए 56 एकड़ 6 कनाल 7 मरला भूमि की खरीद को मंजूरी दी गई।

ई-भूमि पोर्टल के माध्यम से निजी भू मालिकों से बातचीत कर इस भूमि की खरीद के लिए उनकी सहमति ले ली गई है। बैठक में अतिरिक्त अनाज मंडी, सब्जी मंडी और लक्कड़ मंडी के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग 9 और झोंपरा रोड कॉर्नर पर 56 एकड़ 6 कनाल 7 मरला भूमि की खरीद को मंजूरी दी गई।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने निर्देश दिए कि भूमालिकों द्वारा उनकी सहमति से दी गई भूमि खरीदने के बाद प्रस्तावित परियोजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाई जाए।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में आज यहां हुई हाई पावर लैंड परचेज कमेटी (एचपीएलपीसी) की बैठक में छह जिलों रेवाड़ी, नूंह, सिरसा, फरीदाबाद, सोनीपत और जींद में सात परियोजनाओं की स्थापना के लिए भूमालिकों की सहमति के साथ ई-भूमि पोर्टल के माध्यम से 311 एकड़ भूमि की खरीद को मंजूरी दी गई है, जिसकी लागत लगभग 172 करोड़ रुपये आएगी।

Read This – हरियाणा में डीसी रेट नौकरियां-  Click Here 

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से संबंधित जिला उपायुक्तों के साथ एचपीएलपीसी की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि भूमालिकों द्वारा उनकी सहमति से दी गई भूमि खरीदने के बाद प्रस्तावित परियोजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाई जाए।

बैठक में उपमुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला और कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री जे पी दलाल भी उपस्थित रहे। इसके अलावा, संबंधित जिलों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रस्तावित सरकारी परियोजनाओं के लिए अपनी जमीन देने पर सहमति जताने वाले भू-मालिकों ने भी बैठक में हिस्सा लिया।

बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने मीडिया से बातचीत करते हुए परियोजनाओं की जानकारी देते हुए बताया कि छह जिलों में विभिन्न विभागों की परियोजनाओं के संबंध में भूमि खरीद से संबंधित कुल 7 एजेंडा पर चर्चा की गई। उन्होंने बताया कि बैठक में चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान, लोक निर्माण (भवन एवं सडक़ें), हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड और जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभागों के सभी सातों एजेंडा को मंजूरी दी गई।

इनमें रेवाड़ी में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की स्थापना, नूंह जिले में चार लेन मेडिकल कॉलेज रोड से गुरुग्राम-अलवर रोड (एनएच 248 ए) तक रिंग रोड का निर्माण, सिरसा में अतिरिक्त अनाज मंडी का विकास, सेंट्रल रोड फंड की अंतरराज्यीय कनेक्टिविटी योजना के तहत यमुना नदी पर जसना मंझावली अट्टा गुजरान होते हुए ग्रेटर नोएडा के लिए सडक़ और पुल का निर्माण, सोनीपत जिले में गन्नौर रेलवे स्टेशन के पास दिल्ली अंबाला सेक्शन में दो लेन आरओबी का निर्माण, सिरसा जिले में महाग्राम योजना के तहत चौटाला गांव में सीवरेज सिस्टम एसटीपी का निर्माण तथा जींद में नहर आधारित जलापूर्ति योजना का निर्माण शामिल है।

मनोहर लाल ने कहा कि रेवाड़ी जिले में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के निर्माण के लिए लगभग 200 एकड़ भूमि की आवश्यकता है, जिसमें से आज ई-भूमि पोर्टल के माध्यम से लगभग 140 एकड़ भूमि निजी भूमालिकों से बातचीत के बाद खरीदी गई है। जबकि लगभग 60 एकड़ भूमि पंचायत भूमि है ।

विपक्ष द्वारा भूमि अर्जन, पुनर्वासन और पुनव्र्यवस्थापन में उचित प्रतिकर और पारदर्शिता अधिकार (हरियाणा संशोधन) विधेयक, 2021 को किसान विरोधी बताए जाने के संबंध में सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि आवश्यक और आपातकालीन विकास परियोजनाओं को सुचारू रूप से पूर्ण करने के लिए यह विधेयक पारित किया गया है।

Read This – हरियाणा में डीसी रेट नौकरियां-  Click Here 

उन्होंने कहा कि उक्त अधिनियम में अब आवश्यक और आपातकालीन परियोजनाओं के मामलों में सोशल इम्पेक्ट के बिना भूमि अधिग्रहण किया जा सकेगा। जबकि विधेयक में मुआवजा में कोई कमी नहीं की गई है।
उन्होंने कहा कि भूमि अधिग्रहण एक लंबी प्रक्रिया थी, जिसके कारण विभिन्न विकास परियोजनाओं में अनावश्यक देरी होती थी, इसलिए अब राज्य सरकार ने पहले से ही एक प्रणाली बना ली है, जिसके तहत ई-भूमि पोर्टल के माध्यम से किसानों और भू-मालिकों से बातचीत कर उनकी सहमति से भूमि खरीदी जा रही है।

बैठक में मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डी.एस. ढेसी, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव और वित्त आयुक्त श्री संजीव कौशल, लोक निर्माण (भवन एवं सडक़ें) विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री आलोक निगम, जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री देवेंद्र सिंह, वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री टी. वी. एस. एन. प्रसाद, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री वी. उमाशंकर, सामान्य प्रशासन विभाग के प्रधान सचिव श्री विजयेंद्र कुमार, मुख्यमंत्री की उप प्रधान सचिव श्रीमती आशिमा बराड़, भूमि-जोत एवं भू-अभिलेखों की चकबंदी विभाग की निदेशक आमना तसनीम सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया।

Read This – हरियाणा में डीसी रेट नौकरियां-  Click Here 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top