1583X262px
बड़ी खबरें

जान भी ले सकती है लौकी, ऐसे पता लगाएं कि ये विषैली है या खाने लायक

Gourd can also kill, find out whether it is poisonous or edible

हाल ही में बॉलीवुड की स्क्रिप्ट राइटर और आयुष्मान खुराना की पत्नी ताहिरा कश्यप मरते मरते बचीं। उन्हें लगातार उल्टियां होने लगीं। ब्लड प्रेसर 40 से भी नीचे पहुंच गया। शरीर का सिस्टम जवाब देने लगा। तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया। दो दिनों तक इंटेसिव केयर यूनिट में रखे जाने के बाद हालत सुधर पाई। ऐसा हुआ लौकी का जूस बनाकर पीने से। दरअसल उन्होंने जिस लौकी का सेवन किया था, वो विषैली थी। हां, ये ध्यान रखें कोई लौकी विषैली भी हो सकती है।

अगर लौकी विषैली है तो ये जानलेवा हो सकती है। ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जबकि विषैली लौकी के सेवन से हालत बहुत बिगड़ गई। कई बार ऐसी लौकी के सेवन से मृत्यु भी हो गई। क्या लौकी के सेवन से ऐसी खतरा हो सकता है। डॉक्टरों का कहना है कि ऐसा हो सकता है।


ताहिरा कश्यप के मामले पर देशभर के अखबारों में एक दो दिन पहले ही रिपोर्ट्स पब्लिश हुई हैं। इन रिपोर्ट में कई डॉक्टरों से बात भी की गई। टाइम्स आफ इंडिया ने इस बारे में फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हर्ट इंस्टीट्यूट की चीफ डायटीशियन दलजीत कौर से बातचीत की। ताहिरा ने इस पूरे मामले को इंस्टाग्राम के जरिए वीडियो बनाकर पोस्ट किया।

 

ताकि लोगों को लौकी को लेकर जागरूकता हो पाए। वह दरअसल रोज खुद ताजी लौकी का जूस पीती हैं। उनका कहना है कि उन्हें उस दिन लौकी का जूस कड़वा लगा। उसके बाद भी उन्होंने इसे पी लिया। यूं तो लौकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है लेकिन स्वाद कसैला लगे तो कभी उसका सेवन मत करें। उसका कसैला टेस्ट बता देता है कि ये लौकी ठीक नहीं है बल्कि विषाक्त हो सकती है।


उल्टियां आने लगेंगी, बीपी तुरंत गिरेगा
इसको पीते ही उनकी हालत बिगड़ने लगी।उसके बाद उन्हें उल्टियां होने लगीं। ब्लड प्रेसर गिरने लगा। उन्होंने बताया कि उन्हें एक दो बार नहीं बल्कि 16 बार उल्टियां आईं। आईसीयू में जब उन्हें रखा गया तो उनकी हालत काफी नाजुक थी, जो धीरे धीरे सुधरी। डॉक्टरों का कहना है कि विषैली लौकी किसी साइनाइड से कम नहीं होती।

कुकरबिटासिन के कारण विषैली हो जाती है लौकी
फोर्टिस हास्पिटल की चीफ डायटीशियन दलजीत कौर का कहना है कि कई बार लौकी विषैली हो सकती है, जिसे हममे से कई लोग नहीं समझ पाते और इसको खा लेते हैं। विषैली लौकी में अगर कुकरबाइट्स, जिसे कुकरबिटासिन भी कहते हैं, अगर है तो वो कतई सुरक्षित नहीं है। इसका पता लौकी के कड़वे या कसैले स्वाद से लग सकता है।


उल्टी, दस्त भी शुरू हो सकते हैं
इसे लेते ही ये तेजी से रिएक्शन कर सकती है। फिर उल्टी, दस्त, खूनी उल्टी शुरू हो सकती है। ब्लड प्रेसर यकायक गिर जाएगा और शरीर निढाल पडने लगेगा। शरीर में जहर फैलने लगता है। अगर तुरंत इलाज नहीं मिला तो लिवर-किडनी भी फेल हो सकती है। इसलिए लौकी के सेवन में बहुत सावधानी भी बरतने की जरूरत है।

कड़वी लौकी की पहचान कैसे की जा सकती है?
रिसर्च कहती है कि केवल चखकर ही इसकी पहचान हो सकती है। खरीदते समय या घर लाकर लौकी को काटकर चखें। कई बार इसे पका भी लेते हैं तो इसका टेस्ट में कड़वापन बरकरार रहेगा। अगर ये कड़वी लगती है तो तुरंत इसे थूक दें। इसका सेवन खतरनाक है।


क्या कहती है रिसर्च
इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) की एक रिसर्च कहती है कि स्वाद में कड़वी लगने वाली लौकी जहर की तरह होती है, जो किसी की भी जान ले सकती है। इसे लेकर हमने कुछ विशेषज्ञों और रिपोर्ट्स की मदद ली। सवाल और जवाब में समझें लौकी के विषैलेपन और सावधानियों के बारे में

अगर इसका सेवन कर लिया गया तो क्या करें?
ऐसी कड़वी लौकी का सेवन करने के कुछ मिनट में ही आप ब्लड प्रेशर, बेचैनी, घबराहट महसूस करेंगे। उल्टी होने लगेगी। ऐसे में तुरंत डॉक्टर के पास जाएं। उसे जरूर बता दें कि आपने लौकी का सेवन किया है। अगर आपने कम मात्रा में इसका सेवन किया है, जो खतरा कम रहेगा लेकिन अगर ज्यादा सेवन कर लिया है तो खतरा भी उतना ही बढ़ जाएगा।ऐसे ही मामलों में कुछ मौत भी हो चुकी है। कई बार अंग के कुछ हिस्सों पर इसका असर स्थायी तौर पर भी देखा गया है।

आखिर क्या वजह होती है कि सेहतमंद लगने वाली लौकी जानलेवा हो जाती है?
हालांकि ये बहुत कम होता है लेकिन कुछ लौकियों में विषैला केमिकल आ जाता है। इसे कुकरबिटासिन कहते हैं। इसे कैसे आता है, इसके बारे में कुछ पक्का भी नहीं कह सकते। लेकिन अगर आपने इसका सेवन कर लिया तो ये शरीर के अंदर जाते ही 5 मिनट के अंदर असर दिखाने लगता है। इसका जहर शरीर में फैलने लगता है। ये केमिकल लिवर और किडनी सहित जहां-जहां बॉडी में जाता है वहां ऑर्गन को फेल कर सकता है।

बाजार लौकी के जूस मिलते हैं, वहां कैसे पहचान हो सकती है?
वहां भी इसके चखना पड़ेगा। अगर घूंट कड़वा लगे तो तुरंत थूक दें। यही एकमात्र तरीका है कि आप विषैली लौकी की पहचान कर सकते हैं


क्या हर लौकी खतरनाक हो सकती है?
नहीं ऐसा नहीं है। ये जहरीला केमिकल बहुत दुर्लभ ही किसी लौकी में पनप जाता है। लेकिन अगर लौकी के स्वाद को जांचेंगे तो पता लग जाएगा कि लौकी खाने लायक नहीं है।

लौकी में ये विषैला तत्व क्या दवाइयों के छिड़काव के कारण बनता है या अपने आप?
लौकी कई बार अपना डिफेंस सिस्टम विकसित कर लेती है, जिसके फलस्वरूप लौकी में ये केमिकल विकसित हो जाता है। ये पैदावार के समय भी हो सकता है। स्टोरेज में रखने के दौरान तापमान में बदलाव के कारण भी। कभी कभी लौकी को पर्याप्त पानी नहीं मिलने से भी ऐसा हो जाता है।

अगर इसे पका लिया जाए तो क्या कड़वापन खत्म हो जाएगा?
नहीं। पकाने के बाद भी इसका कड़वापन बना रहेगा। और विषैला तत्व भी लौकी में बना रहेगा।

 

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top