1583X262px
सरकारी योजनाएं

90% डिस्काउंट पर लगवाएं सोलर पैनल, लाखों में कमाई के साथ होंगे ये फायदे

Get solar panels installed at 90% discount, these benefits will be there with earning in lakhs

PM Kusum: इस योजना के तहत किसानों को सब्सिडी पर सोलर पैनल मिलते हैं, जिससे वे बिजली बना सकते हैं। जरूरत भर बिजली का इस्तेमाल करके वे बाकी को बेच कर अतिरिक्त इनकम भी कमा सकते हैं। इस योजना के तहत 20 लाख किसानों को सोलर पंप लगाने में मदद की जाएगी। 15 लाख किसानों को ग्रिड से जुड़े सोलर पंप लगाने के लिए धन मुहैया कराया जाएगा। इस योजना पर सरकार ने 34,422 करोड़ रुपए खर्च करने का एलान किया है।

केंद्र सरकार का लक्ष्य 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का है। जिसके चलते केंद्र सरकार ने किसानों के लिए कई योजनाएं शुरू की हैं। इन्हीं में से एक योजना है पीएम कुसुम। पीएम कुसुम योजना को साल 2019 में शुरू किया गयाा, जिसके बाद बजट 2020 में वित्त मंत्री ने इस योजना का विस्तार किया है।

कुसुम योजना के फायदे
पीएम कुसुम योजना के तहत किसानों को सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि उन्हें सिंचाई के लिए फ्री बिजली मिलेगी। इस योजना से किसानों की डीजल और केरोसिन तेल पर निर्भरता घटेगी। दूसरा फायदा यह है कि इससे पैदा होने वाली अतिरिक्त बिजली को वे किसी कंपनी को बेच सकेंगे। इस योजना से किसान सौर ऊर्जा उत्पादन करने और उसे ग्रिड को बेचने में सक्षम होंगे। यानी उनकी आमदनी भी बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें:  Stand Up India Scheme: SC/ST और महिला उद्यमी खड़ा कर सकते हैं खुद का कारोबार, इस योजना के तहत सरकार कर रही मदद

सोलर पंप यानी कमाई का जरिया
इस योजना के जरिए बिजली या डीजल से चलने वाले सिंचाई पंप को सोलर एनर्जी से चलने वाले पंप में बदला जाएगा. सोलर पैनल से पैदा होने वाली बिजली का इस्तेमाल पहले अपने सिंचाई के काम में करेंगे। उसके अलावा जो बिजली अतिरिक्त बचेगी, उसे विद्युत वितरण कंपनी (DISCOM) को बेचकर 25 साल तक आमदनी कर सकते हैं।

इसका एक और फायदा है कि सौर एनर्जी से डीजल और बिजली के खर्च से भी राहत मिलेगी और प्रदूषण भी कम होगा। सोलर पैनल 25 साल तक चलेगा और इसका रखरखाव भी आसान है। इससे जमीन के मालिक या किसान को हर साल एकड़ 60 हजार रुपए से 1 लाख रुपए तक आमदनी अगले 25 साल तक हो सकती है।

कैसे करें आवेदन
पीएम कुसुम योजना के तहत आवेदन के लिए सरकारी वेबसाइट  पर जाकर रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके लिए आधार कार्ड, प्रॉपर्टी के दस्तावेज और बैंक खाते की जानकारी देनी होगी। सोलर प्लांट लगवाने के लिए जमीन विद्युत सब-स्टेशन से 5 किलोमीटर तक दायरे में होनी चाहिए। किसान सोलर प्लांट खुद या डेवलपर को जमीन पट्टे पर देकर लगवा सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Krishi Sinchai Yojana: किसानों की सिंचाई की समस्या होगी खत्म, सिंचाई उपकरणों पर सरकार देगी 80-90% सब्सिडी

90 फीसदी मिल रही है छूट
इस योजना के तहत किसानों को अपनी जमीन पर सोलर पैनल स्थापित करने के लिए केवल 10 फीसदी रकम का भुगतान करना होता है। केंद्र और राज्य सरकारें किसानों को बैंक खाते में 60 फीसदी सब्सिडी की रकम देती है। इसमें केंद्र और राज्यों की ओर से बराबर का योगदान देने का प्रावधान है। वहीं बैंक की ओर से 30 फीसदी लोन का प्रावधान है। इस लोन को किसान अपनी होने वाली आमदनी से आसानी से भर सकते हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top