Delhi NCR School Vacation: केंद्रीय विद्यालयों में गर्मी की छुट्टियां घोषित, जानिये- कब से खुलेंगे स्कूल

KVS Summer Vacation 2022 केंद्रीय विद्यालय संगठन की ओर से गर्मियों की छुट्टियों का ऐलान कर दिया गया है। बावजूद इसके केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की टर्म 2 की परीक्षाओँ के दिन दिल्ली-एनसीआर में स्कूल खुले रहेंगे।

 
केंद्रीय विद्यालयों में गर्मी की छुट्टियां घोषित, जानिये- कब से खुलेंगे स्कूल

मौसमी उतार-चढ़ाव के बीच सोमवार से एक बार फिर भीषण गर्मी और लू का दौर शुरू होने जा रहा है। इस बीच स्कूलों समेत अन्य शिक्षण संस्थानों में गर्मी की छुट्टियों का ऐलान शुरू होने जा रहा है। इस कड़ी में दिल्ली-एनसीआर समेत देशभर के केंद्रीय विद्यालयों में पहली से लेकर 12वीं कक्षा तक के छात्र-छात्राओं के लिए गर्मियों की छुट्टियों का ऐलान कर दिया गया है। केंद्रीय विद्यालय संगठन के मुताबिक, आगामी 17 जून तक स्कूल बंद रहेंगे और फिर 18 जून से स्कूल खोले जाएंगे।  

केंद्रीय विद्यालय संगठन की और से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक, देहरादून, दिल्ली, गुरुग्राम, आगरा, चंडीगढ़, कोलकाता, गुवाहाटी, जयपुर, जम्मू, लखनऊ, पटना, रांची, सिलचर, तिनसुकिया, वाराणसी, अहमदाबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, एर्णाकुलम, हैदराबाद, जबलपुर, मुंबई, रायपुर, भुवनेश्वर और भोपाल के अलावा जिन स्थानों पर गर्मियों की छुट्टियां होती हैं वहां पर 16 जून तक छुट्टियां रहेंगी।

केंद्रीय विद्यालयों में छुट्टियों का ऐलान तो कर दिया गया है, लेकिन केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की टर्म 2 बोर्ड परीक्षा 2022 के चलते स्कूल खुले रहेंगे। इसके तहत जिस दिन परीक्षा होगी उस दिन स्कूल खुलेंगे। बता दें कि सीबीएसई कक्षा 10 (हाई स्कूल) के टर्म 2 परीक्षाएं 26 अप्रैल से शुरू हुईं और आगामी 24 मई तक आयोजित की जाएंगी। परीक्षा एक ही शिफ्ट सुबह 10:30 बजे से 12:30 बजे तक आयोजित की जा रही। टर्म 2 परीक्षाएं सब्जेक्टिव और आब्जेक्टिव क्वेश्चन बेस्ड हो रही हैं। इस दौरान केंद्रीय विद्यालय में जिस दिन परीक्षा होगी उस दिन स्कूलों को खोला जाएगा।

बता दें कि पिछले साल केवीएस ने कोविड-19 के कारण समय से पहले सभी स्कूलों में संशोधित ग्रीष्मकालीन अवकाश के आदेश जारी किए थे। इस दौरान सर्दी वाले स्थानों और ज्यादा सर्दी वाले स्थानों में छुट्टियों के शेड्यूल में कोई बदवाल नहीं किया गया था। पिछले साल 3 मई, 2021 से 20 जून, 2021 तक गर्मियों की छुट्टियां घोषित की गई थीं।

बच्चों की लंबी छुट्टियां होती है तो शुरू में दो-चार दिनों तक बच्चों को बहुत अच्छा लगता है पर धीरे-धीरे बच्चे बोर होने लगते हैं। ऐसे में माता-पिता को चाहिए कि उनका होली डे होम वर्क भी पूरा करवाएं।
आजकल दिल्ली-एनसीआर के सभी बड़े शहरों में स्कूली बच्चों के लिए समर कैंप लगाए जाते हैं, इनमें भी बच्चों का भेजा जा सकता है। और हां कोरोना गाइडलाइन के साथ ही ऐसी जगहों पर अपने बच्चों को भेंजे।

छुट्टियों में बच्चों को पढ़ाई से एकदम दूर भी नहीं होना चाहिए। स्कूल से होमवर्क इसीलिए दिया जाता है कि बच्चे पढ़ाई के साथ जुड़े रहें। माता-पिता बच्चों को बिगड़ने ना दें।
हाबी क्लासेज या समर कैंप ज्वाइन करना एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

यदि आपके बच्चे की कला और चित्रकारी में रुचि है तो उसे अपने आप चित्र बनाने के लिए स्वतंत्र छोड़ दें। इससे बच्चे खुद-ब-खुद कई तरह की ज्यामितिक आकृतियां बनाना भी सीख जाएंगे। बच्चों को एटलस देखना सिखाएं।

बच्चे के व्यक्तित्व के विकास के लिए सिर्फ पाठ्यक्रम में शामिल पुस्तकें पढ़ना ही काफी नहीं है। बल्कि उसे अच्छा बाल-साहित्य और विज्ञान और सामान्य ज्ञान से जुड़ी रोचक और ज्ञानव‌र्द्धक पुस्तकें भी पढ़नी चाहिए।

सीखने की भावना बच्चों को आगे चलकर समर्थ बनने में सहयोग करती है। कठिनाइयों और तकलीफों से लड़ने की भावना उन्हे इसी समय से आनी चाहिए। दो महीने का लंबा अवकाश वह आदर्श समय है जब आप थोड़ी सी कोशिश करे तो बच्चों को सही दिशा दे सकती है। उनकी छुट्टियों का प्रोग्राम पहले से ही निश्चित करके रखें ताकि बच्चे समय का सदुपयोग कर अपने व्यक्तित्व को निखार सकें।