Blow Horn Not Allowed: पीं-पों होगा बंद! तेज हॉर्न बजाने वालों की अब खैर नहीं, इस तकनीक के साथ यहां लागू हुआ ये नया नियम
 
Blow Horn Not Allowed: पीं-पों होगा बंद! तेज हॉर्न बजाने वालों की अब खैर नहीं, इस तकनीक के साथ यहां लागू हुआ ये नया नियम

ट्रैफिक जाम में गाड़ियों के हॉर्न की आवाज सुनते-सुनते लोगों के कान दुखने लगते हैं। ध्वनि प्रदूषण इतना होता है कि लोगों को कान से संबंधित बीमारियां हो जाती हैं। कुछ लोग तो ज्यादा तेज हॉर्न बजाने के लिए अपनी गाड़ी को भी मॉडिफाई करवा लेते हैं। लेकिन, इसको रोकने के लिए एक देश में ऐसा नियम बनाया है, जिसके बाद अब गाड़ियों का ज्यादा तेज पीं-पों-पीं करना बंद हो जाएगा। गाड़ी चालक द्वारा ज्यादा तेज हॉर्न बजाने या ज्यादा नॉइज करने पर उस पर जुर्माना भी ठोका जाएगा। जी हां, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूनाइटेड स्टेट्स के राज्य कैलिफोर्निया में ये नया नियम लागू किया है।

तेज हॉर्न बजाने वाले वाहनों पर गिरेगी गाज

दरअसल, कैलिफोर्निया ने एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में इस कानून को पेश किया है। इसके तहत कैलिफोर्निया की सड़कों पर साउंड-एक्टिव कैमरा सिस्टम लगाए जाएंगे, जो ज्यादा तेज हॉर्न बजाने वाले वाहनों को कैच करने में सक्षम होंगे। तेज आवाज करने वाले वाहनों के नॉइज को रोकने के लिए कैलिफोर्निया ने यह नियम पेश किया है। जनवरी 2023 और दिसंबर 2027 के बीच चलने वाले एक पायलट कार्यक्रम के हिस्से के रूप में कानून को मंजूरी दी गई है। इसमें कैमरों का एक नेटवर्क शामिल है, जो साउंड द्वारा सक्रिय होते हैं।

कैसे काम करेगा साउंड-एक्टिव कैमरा

साउंड-एक्टिव कैमरों में सेंसर लगे होंगे, जो नॉइज के स्तर की निर्धारित सीमा से अधिक होने पर सक्रिय हो जाएंगे। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि एक बार ट्रिगर होने के बाद, कैमरे वाहन की लाइसेंस प्लेट की एक क्लियर इमेज क्लिक करने में सक्षम होंगे। इसके बाद नियम का उल्लंघन करने वाले लोगों पर कार्रवाई होगी। वर्तमान में कैलिफोर्निया में वाहनों के साउंड नॉइज की कानूनी सीमा कारों के लिए 95 डेसिबल और मोटरसाइकिलों के लिए 80 डेसिबल है, जो 1985 के बाद बनाई गई हैं। नए बिल के तहत इन सीमाओं के जारी रहने की उम्मीद है।

लोगों को हो रही समस्या

ज्यादा नॉइज करने वाले वाहन दुनिया भर के विभिन्न शहरों में लोगों द्वारा फेस की जाने वाली एक आम समस्या है। जहां वाहन निर्माता अनुमत सीमा के भीतर कार और मोटरसाइकिल बनाते हैं, वहीं कई वाहन मालिक अपने गाड़ियों को मॉडिफाई करवाकर एग्जॉस्ट सिस्टम लगवा लेते हैं या गाड़ी के हॉर्न को बदलवा देते हैं। ऐसा करने से ध्वनि प्रदूषण बहुत ज्यादा होता है। हाई डेसीबल हॉर्न से भी बड़ी संख्या में लोगों को परेशानी होती है।