Subsidy on Fertilizers: यूरिया-DAP के दामों में नहीं होगी बढ़ोतरी, इस योजना को मिली मंजूरी

 
 यूरिया-DAP के दामों में नहीं होगी बढ़ोतरी, इस योजना को मिली मंजूरी

Subsidy on Fertilizers: देश के किसानों के लिए मोदी सरकार कई तरह की सब्सिडी योजना लाती रहती है।

दरअसल खेती में, बीजों के साथ-साथ खाद का भी काफी महत्व होता है। 

किसानों की ओर से विभिन्न फसलों को उत्पादन में उर्वरकों का उपयोग तब होता है, जब भूमि में पोषक तत्वों की पूर्ति की आवश्यकता होती है। 

इस प्रकार, उर्वरकों के महंगे होने से फसल उत्पादन की लागत बढ़ जाती है, जिससे किसानों को काफी नुकसान होता है। 

इसलिए सरकार की ओर से उर्वरकों पर भारी सब्सिडी (subsidy on fertilizers) दी जाती है। 

इस साल भी, केंद्र सरकार ने किसानों को उचित दामों पर यूरिया और अन्य खादों की पोषक तत्व आधारित सब्सिडी प्रदान करने की मंजूरी दी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने उर्वरक विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दी है। 

इस प्रस्ताव में विभिन्न पोषक तत्वों जैसे नाइट्रोजन (N), फास्फोरस (P), पोटाश (K), और सल्फर (S) के लिए सब्सिडी (NBS) दरों में संशोधन शामिल है।

इसके अलावा, खरीफ मौसम (1 अप्रैल 2023 से 30 सितम्बर 2023 तक) के लिए फॉस्फेट और पोटाश (पी एंड के) उर्वरकों के लिए भी अनुमोदित एनबीएस दरें मंजूर की गई हैं। 

ये नया निर्णय खेती सेक्टर को बढ़ावा देने और किसानों को सहायता प्रदान करने का एक महत्वपूर्ण कदम है।

खरीफ सीजन 2023 के दौरान, केंद्र सरकार किसानों के लिए अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए 38,000 करोड़ रुपये की सब्सिडी देने का फैसला लिया है। 

इस फैसले के माध्यम से, खरीफ सीजन में किसानों को गुणवत्ता और सब्सिडी वाले पीएण्डके उर्वरक प्राप्त करने में दोहरा लाभ होगा।

साथ ही, किसानों को डीएपी और अन्य पीएण्डके उर्वरकों की सही मूल्य पर उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी और पीएण्डके उर्वरकों पर सब्सिडी का युक्तिकरण भी होगा। 

यह नया निर्णय किसानों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए केंद्र सरकार की संपूर्ण प्रयासों का प्रमाण है।


सरकार ने 1 अप्रैल 2010 से ही एनबीएस योजना के तहत फॉस्फेट और पोटाश (पी एंड के) उर्वरकों पर सब्सिडी देना शुरू कर दिया था। 

इसके साथ ही, सरकार ने रबी मौसम 2022-2023 (01 जनवरी 2023 से 31 मार्च 2023 तक) के लिए एनबीएस दरों में संशोधन को मंजूरी दे दी है 

और खरीफ मौसम (01 अप्रैल 2023 से 30 सितम्बर 2023 तक) के लिए भी एनबीएस दरों को मंजूरी दे दी है।

इससे किसानों को आर्थिक रूप से सही कीमतों पर फॉस्फेटिक और पोटाश पी एंड के उर्वरकों के 25 ग्रेड का उपयोग करने की सुविधा मिलेगी।

यह एक महत्वपूर्ण कदम है जो किसानों को अधिक लाभ प्रदान करेगा और उनकी खेती को सुरक्षित बनाए रखेगा।

आने वाले खरीफ सीजन में यूरिया और डीएपी खाद की कीमत में कोई परिवर्तन नहीं होगा, क्योंकि सरकार द्वारा पोषक तत्व आधारित सब्सिडी को मंजूरी दी जा चुकी है।

Urea Rate – वर्तमान में देश में नीम लेपित यूरिया की एक बोरी कीमत 266.50 रुपये है
DAP Rate – जबकि DAP की एक बोरी की कीमत 1,350 रुपये है।

इसलिए, किसानों को आगामी खरीफ सीजन (1 अप्रैल से 30 सितम्बर 2023) के दौरान यूरिया और डीएपी खाद इसी कीमत (DAP Price) पर ही मिलेगा। 

इससे किसानों को आर्थिक रूप से सुविधा मिलेगी और वे अपनी खेती को बेहतर तरीके से संचालित कर सकेंगे।