Wheat Cultivation: गेहूं की पत्तियां पड़ रही है पीली तो न हो परेशान, अब इन उपायों से चुटकियों में होगा समाधान!

किसान काफी लागत से और दिन रात मेहनत कर अपनी फसल की देख रेख करता है। इसके बाद ही उसे इससे कुछ मुनाफा हो पाता है। कई बार अपने देखा होगा कि कभी बारिश, आंधी तूफ़ान और कभी ओलावृष्टि की वजह से किसानो की फसल खराब हो जाती है जिससे उन्हें बहुत नुक्सान होता है।
 
Wheat Cultivation:

Wheat Cultivation: किसान काफी लागत से और दिन रात मेहनत कर अपनी फसल की देख रेख करता है। इसके बाद ही उसे इससे कुछ मुनाफा हो पाता है। कई बार अपने देखा होगा कि कभी बारिश, आंधी तूफ़ान और कभी ओलावृष्टि की वजह से किसानो की फसल खराब हो जाती है जिससे उन्हें बहुत नुक्सान होता है। इसके साथ ही कई बार फसलों में कोई भी बीमारी लग जाती है जिससे उन्हें नुक्सान झेलना पड़ता है। 

इस रबी सीजन में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है। किसानो का कहना है कि गेहूं की फसल की पत्तियां नीचे से पीली पड़ रही है। ऐसे में किसानो की चिंता दूर करने के लिए कृषि विभाग ने कुछ उपाय किसानो को सुझाये हैं जिससे वे अपनी फसल को इससे बचा सकते हैं। 

कृषि विभाग के अधिकारी ने बताया कि गेहू की फसल के लिए कम तापमान ही सही रहता है। उन्होंने कहा कि गेहूं की फसल के लिए उपयुक्त तापमान 6 डिग्री सेल्सियस से 15 डिग्री सेल्सियस तक होता है। ऐसे में तापमान कम या ज्यादा होने पर यह पत्तियां पीली पड़नी शुरू हो जाती हैं। किसानो को इससे घबराने की जरूरत नहीं है। 

कृषि विभाग के अधिकारी ने बताया कि इस समस्या से निजात पाने के लिए किसानो को अढाई किलो यूरिया, आधा किलो जिंक (21%) 150 लीटर पानी में मिलाकर स्प्रे करें। इसके साथ ही, अत्यधिक ठंड से बचाव के लिए हल्की सिंचाई कर सकते हैं। खेतों के किनारे मेड आदि पर धुआं करें।  इससे फसल सुखे पाले से बची रहेगी।