शादी से पहले ही दुल्हन बनने वाली 'दबंग' पुलिस ऑफिसर ने मंगेतर को खिलाई जेल की हवा

 एक अजीबोगरीब मामले में, असम की एक महिला पुलिस (Woman Police) ने नागांव जिले में धोखाधड़ी के आरोप में अपने ही मंगेतर को गिरफ्तार कर लिया. 

 
शादी से पहले ही दुल्हन बनने वाली 'दबंग' पुलिस ऑफिसर ने मंगेतर को खिलाई जेल की हवा

Assam Cop Arrests Fiance on Fraud Charges: असम पुलिस (Assam Police) की एक महिला पुलिस अधिकारी (Woman Police Official) को एक नायक के रूप में सम्मानित किया जा रहा है क्योंकि उसने यह साबित कर दिया है कि उसका कर्तव्य सबसे ऊपर है. महिला पुलिस अधिकारी ने एक प्राथमिकी दर्ज की और अपने ही मंगेतर को उसके कथित अपराधों (Arrested Her Own Fiance) के बारे में पता चलने के बाद गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ऑफिसर ने अपने मंगेतर को किया अरेस्ट
नॉर्थ ईस्ट क्रॉनिकल के मुताबिक, जुनमोनी राभा (Junmoni Rabha), जो नागांव जिले (Nagaon District) में सब-इंस्पेक्टर (Sub-Inspector) के रूप में कार्यरत हैं, उन्होंने धोखाधड़ी के आरोप में अपने मंगेतर को गिरफ्तार किया. गौरतलब है कि राभा ने जनवरी 2021 में राणा पोगाग के रूप में पहचाने जाने वाले आरोपी से मुलाकात की, जब वह माजुली में तैनात थी. राभा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उन्होंने और पोगाग ने पिछले साल अक्टूबर में औपचारिक रूप से सगाई कर ली थी और इस साल नवंबर में शादी समारोह आयोजित करने की योजना बनाई थी.

धोखाधड़ी के केस में ऑफिसर ने किया गिरफ्तार
हालांकि, जुनमोनी राभा को पता चला कि राणा ऑयल इंडिया लिमिटेड का पीआर बनने का नाटक कर रहा है और कई लोगों को नौकरी देने का वादा करके उन्हें ठगा है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्होंने पोगाग के घर से ओएनजीसी की 11 फर्जी मुहरें और फर्जी पहचान पत्र समेत कई आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए. राभा ने कहा, 'मैं उन तीन लोगों की आभारी हूं जो मेरे पास उसके (राणा पोगाग) के बारे में जानकारी लेकर आए कि वह कितना बड़ा धोखेबाज है. उन्होंने मेरी आंखें खोल दीं.

इस साल की शुरुआत में भी, राभा ने बिहपुरिया के विधायक अमिय कुमार भुयान के साथ उनकी टेलीफोन पर हुई बातचीत के सोशल मीडिया पर लीक होने के बाद सुर्खियां बटोरी थीं. विधायक ने कथित तौर पर उनसे असम के एक अन्य पुलिस वाले के साथ अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों को परेशान नहीं करने के लिए कहा था. हालांकि, उन्होंने झुकने से इनकार कर दिया और इसके बजाय विधायक से सरकार द्वारा निर्धारित नियमों और विनियमों को तोड़ने के बारे में पूछा.