Success Story: पापा से किया था अफसर बिटिया बनने का वादा, 22 साल में IAS बनीं सुलोचना मीणा जानिए इनकी सफलता की कहानी

राजस्थान की रहने वाली सुलोचना मीणा ने साल 2021 की यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) में सफलता हासिल की है. अपने पहले ही प्रयास में सफल होकर सुलोचना हर किसी के लिए प्रेरणा बन गई हैं. उन्होंने अपने पापा से वादा किया था कि वह उनकी अफसर बिटिया बनकर दिखाएंगी.

 
Success Story: पापा से किया था अफसर बिटिया बनने का वादा, 22 साल में IAS बनीं सुलोचना मीणा जानिए  इनकी सफलता की कहानी 

IAS Sulochana Meena Biography

IAS Sulochana Meena Biography: आईएएस सुलोचना मीणा राजस्थान के सवाई माधोपुर के आदलवाड़ा (Adalwara Kalan, Sawai Madhopur, Rajasthan) गांव की रहने वाली हैं. उनके पिता रामकेश मीणा रेलवे अधिकारी और मां गृहणी हैं (IAS Sulochana Meena Family). सुलोचना दो बहनों में बड़ी हैं. वह अपने कॉलेज के दिनों में नेशनल सर्विस स्कीम यानी एनएसएस (NSS) की एक्टिव मेंबर रही हैं.

IAS Sulochana Meena Education

IAS Sulochana Meena Education: आईएएस सुलोचना मीणा ने दिल्ली यूनिवर्सिटी (Delhi University) से पढ़ाई की है. उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस (Miranda House) कॉलेज से बॉटनी (Botany) में ग्रेजुएशन किया है. वह सेल्फ स्टडी के महत्व को समझती हैं और सफलता के लिए उसे ही बेस्ट मानती हैं (Self Study). उन्होंने इंस्टाग्राम पर अपनी एक पोस्ट के कैप्शन में इस बात का जिक्र किया है.

IAS Sulochana Meena UPSC

IAS Sulochana Meena UPSC: सुलोचना मीणा ने कॉलेज की पढ़ाई के साथ ही यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) की तैयारी भी शुरू कर दी थी. वह उन भाग्यशाली उम्मीदवारों में से एक हैं, जिन्होंने अपने पहले प्रयास में मात्र 22 साल की उम्र में सफलता हासिल कर ली. उन्होंने अपने पिता से वादा किया था कि वह उनकी अफसर बिटिया बनकर दिखाएंगी. उन्होंने आईएएस ऑफिसर (IAS Officer) बनकर उसी सपने को साकार कर दिखाया.

IAS Sulochana Meena Rank

IAS Sulochana Meena Rank: यूपीएससी परीक्षा 2021 का रिजल्ट आते ही सुलोचना मीणा और उनके परिजनों का जोरदार तरीके से सम्मान किया गया था. उन्होंने ऑल इंडिया लेवल पर 415वीं तथा एसटी श्रेणी में 6वीं रैंक हासिल की है. पहले प्रयास में एसटी वर्ग में छठा स्थान प्राप्त कर सुलोचना ने सभी के लिए एक मिसाल कायम की है. अब तक 22 साल की उम्र में चयनित होने वाले जिले के लोगों में महिला वर्ग के तहत सुलोचना पहली अभ्यर्थी हैं.