EPFO Alert: PF खाताधारक हो जाएं सावधान! भूलकर भी शेयर न करें ये डिटेल्स, अकाउंट हो सकता है खाली

EPFO Alert: ईपीएफओ ने अपने करोड़ों खाताधारकों को अलर्ट किया है. आइए जानते हैं किस तरह आप ईपीएफओ खाताधारक किसी तरह खुद को फ्रॉड (Cyber Fraud) से सुरक्षित रख सकते हैं.  
 
EPFO Alert: PF खाताधारक हो जाएं सावधान! भूलकर भी शेयर न करें ये डिटेल्स, अकाउंट हो सकता है खाली

Employees Provident Fund Organisation: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के देशभर में करोड़ों खाताधारक है. हर नौकरी करने वाले व्यक्ति की सैलरी का एक हिस्सा खाताधारक के अकाउंट में जमा होता है. जब वह व्यक्ति रिटायर होता है तो ईपीएफओ के खाते (EPFO Account)  में जमा पूरे पैसे खाताधारक को मिल जाते हैं. इसके अलावा अगर आपको इमरजेंसी की स्थिति जैसे बीमारी, बच्चों की पढ़ाई या शादी में पैसों की जरूरत पड़ गई है तो आप इन पैसों का इस्तेमाल कर सकते हैं. ऐसे में ईपीएफओ के खाते में जमा पैसों को हर व्यक्ति के जीवन में जमा पूंजी माना जाता है. ऐसे में इस खाते को इस्तेमाल करते वक्त कुछ बातें का ध्यान रखा बहुत जरूरी है.

भारत में बढ़ते डिजिटलाइजेशन के साथ ही साइबर अपराध के मामलों में भी तेजी से इजाफा हो रही है. आजकल कई ऐसे साइबर अपराधी है जो लोगों से उनकी पर्सनल डिटेल्स को चुराकर उनके खाते को खाली कर देते हैं. ऐसे में आपके साथ ऐसा न हो इस लिए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (Employees Provident Fund) ने अपने करोड़ों खाताधारकों को अलर्ट किया है. आइए जानते हैं किस तरह आप ईपीएफओ खाताधारक किसी तरह खुद को फ्रॉड (Cyber Fraud) से सुरक्षित रख सकते हैं.  

EPFO ने ट्वीट कर किया सतर्क-
अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस मामले पर ट्वीट करके कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने अपने करोड़ों खाताधारकों को जानकारी दी है EPFO अपने सब्सक्राइबर्स से उनकी पर्सनल जानकारी जैसे आधार नंबर (Aadhaar Card), पैन नंबर (PAN Card), UAN नंबर, बैंक अकाउंट नंबर (Bank Account Number) और ओटीपी बिल्कुल भी नहीं मांगता है. ऐसे में इस तरह के मैसेज या कॉल पर अपनी पर्सनल जानकारी किसी भी अनजान व्यक्ति के साथ बिल्कुल भी न शेयर करें.


किसी तरह के फ्रॉड की सूचना तुरंत पुलिस को दें-
आपको बता दें कि अक्सर यह देखा गया है कि इस तरह की फ्रॉड की घटनाएं नौकरी बदलते वक्त लोगों के साथ पेश आती है. ऐसे में लोग ईपीएफओ के डिटेल्स बदलने के नाम पर लोगों से आधार, पैन, बैंक अकाउंट आदि डिटेल्स ले लेते हैं. इसके बाद वह इस डिटेल्स का गलत इस्तेमाल करके खाताधारक के अकाउंट को खाली कर देते हैं. ऐसे में किसी भी व्यक्ति से अपनी पर्सनल जानकारी बिना सोचे-समझें न शेयर करें. इसके साथ ही अगर आपके साथ किसी तरह का फ्रॉड की घटना हुई है तो इसकी सूचना तुरंत पुलिस को दें.