Sariya Rate: बारिश की वजह से सातवें आसमान से औंधे मुंह गिरा सरिये का भाव, जाने लेटेस्ट रेट

सरकार ने स्टील पर एक्सपोर्ट ड्यूटी (Export Duty On Steel) हाल ही में बढ़ा दी थी. इसकी वजह से घरेलू बाजार में स्टील के दाम तेजी से गिरे हैं. सरिये के दाम में आई कमी की मुख्य वजह भी यही है. इसके अलावा देश के कई हिस्सों में हो रही भारी बारिश के चलते निर्माण गतिविधियों में कमी आई है, जिसका असर डिमांड पर हुआ है.

 
बारिश की वजह से औंधे मुंह गिरा सरिये का भाव, 2 महीने में हुआ 7000  रुपये तक सस्ता

Sariya Rate: मानसून आने के बाद से देश के विभिन्न हिस्सों में लगातार बारिश हो रही है. इसका सीधा असर निर्माण गतिविधियों (Construction Activities) पर हुआ है. बारिश और बाढ़ जैसे हालात के चलते निर्माण गतिविधियों के कम होने से सीमेंट (Cement), सरिया (Sariya) जैसी सामग्रियों के भाव भी कम हुए हैं. सरिये की बात करें तो इसे सरकारी दखल से भी फायदा हुआ है. ये तमाम फैक्टर्स सरिया को फिर से सस्ता बना रहे हैं. पिछले 02 महीने के दौरान इसके भाव में करीब 7000 रुपये तक की गिरावट आई है. अभी देश के कई शहरों में सरिये का भाव कम होकर 50 हजार रुपये प्रति टन तक आ गया है.

एक्सपोर्ट ड्यूटी बढ़ने का असर

आपको बता दें कि सरकार ने स्टील पर एक्सपोर्ट ड्यूटी (Export Duty On Steel) हाल ही में बढ़ा दी थी. इसकी वजह से घरेलू बाजार में स्टील के दाम तेजी से गिरे हैं. सरिये के दाम में आई कमी की मुख्य वजह भी यही है. इसके अलावा देश के कई हिस्सों में हो रही भारी बारिश के चलते निर्माण गतिविधियों में कमी आई है, जिसका असर डिमांड पर हुआ है. मार्च-अप्रैल के दौरान सरिये का भाव रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया था. उसके बाद सरिये के भाव में तेजी से गिरावट आई थी, लेकिन जून से इनकी कीमतें फिर बढ़ने लगी थीं. इधर पिछले 02 महीने के दौरान सरिया फिर से सस्ता हो रहा है.

अभी इतना सस्ता मिल रहा सरिया

इस्पात मंत्रालय के आंकड़ों को देखें तो TMT सरिया का खुदरा भाव अप्रैल की शुरुआत में 75,000 रुपये प्रति टन के आसपास था, जो 15 जून को गिरकर करीब 65 हजार प्रति टन पर आ गया था. खुदरा बाजार के हिसाब से देखें तो अप्रैल में एक समय सरिये का भाव 82,000 रुपये प्रति टन पहुंच गया था, जो अभी कम होकर 50 से 55 हजार रुपये प्रति टन रह गया है. इसका मतलब हुआ कि अप्रैल के रिकॉर्ड हाई की तुलना में सरिये का भाव अभी करीब 30 हजार रुपये प्रति टन कम है. सिर्फ लोकल ही नहीं बल्कि ब्रांडेड सरिये का भाव भी पिछले कुछ महीनों में काफी कम हुआ है. मार्च 2022 में ब्रांडेड सरिये का रेट 01 लाख रुपये प्रति टन के पास पहुंच गया था, जो अभी 80-85 हजार रुपये प्रति टन पर आ गया है.

जानें आपके शहर में क्या है सरिये का ताजा रेट

भारत के प्रमुख शहरों में सरिया के रेट अलग-अलग मात्रा में कम हुए हैं. आयरनमार्ट (ayronmart) वेबसाइट सरिये की कीमतों की घट-बढ़ पर नजर रखती है और उसी आधार पर कीमतों को अपडेट करती है. देश के प्रमुख शहरों की बात करें तो पिछले 02 महीने के दौरान उत्तर प्रदेश के कानपुर में सरिये का रेट सबसे तेजी से कम हुआ है. पिछले 02 महीने के दौरान कानपुर में सरिया के भाव में 6,800 रुपये प्रति टन की गिरावट आई है. अभी देश में सबसे सस्ता सरिया पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर और कोलकाता में मिल रहा है, जहां इसका ताजा रेट 50,000 रुपये प्रति टन है. वहीं दिल्ली में इसका रेट सबसे ज्यादा है. दिल्ली में सरिया अभी 55,900 रुपये प्रति टन के भाव में मिल रहा है.

देखें प्रमुख शहरों में क्या है सरिये का भाव... सभी कीमतें रुपये प्रति टन में हैं. इन कीमतों पर अलग से 18 फीसदी की दर से जीएसटी (GST) भी लगेगा.

शहर (राज्य) 15 जुलाई 14 सितंबर अंतर
दुर्गापुर (पश्चिम बंगाल) 51,500 50,000 1500
कोलकाता (पश्चिम बंगाल) 52,000 50,000 2000
रायगढ़ (छत्तीसगढ़) 55,200 51,300 3900
राउरकेला (ओडिशा) 56,200 52,300 3900
नागपुर (महाराष्ट्र) 56,000 52,000 4000
हैदराबाद (तेलंगाना) 58,000 53,000 5000
जयपुर (राजस्थान) 58,000 53,800 4200
भावनगर (गुजरात) 58,000 54,100 3900
मुजफ्फरनगर (UP) 57,800 53,200 4600
गाजियाबाद (UP) 58,200 53,300 4900
इंदौर (मध्य प्रदेश) 56,500 54,500 2000
गोवा 57,600 54,000 3600
जालना (महाराष्ट्र) 56,500 54,300 2200
मंडी गोविंदगढ़ (पंजाब) 59,700 55,400 4300
चेन्नई (तमिलनाडु) 59,700 55,300 4400
दिल्ली 58,800 55,900 2900
मुंबई (महाराष्ट्र) 58,700 54,300 4400
कानपुर (उत्तर प्रदेश) 61,800 55,000 6800